साल 2013 में आई आपदा से सीख लेकर उत्तराखंड में अब चारों धामों की यात्रा के लिए दुर्घटना मुक्त राजमार्ग बनाने का काम फरवरी के महीने से शुरू हो जाएगा। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस काम के लिए हरिद्वार में भूमि पूजन करने भी पहुंच सकते हैं।

इस राजमार्ग की लंबाई करीब 900 किमी होगी। पहले ये भूमि पूजन दशहरा के मौके पर होना था, लेकिन किन्हीं कारणों से इसे टाल दिया गया था। इस योजना के बारे में बताते हुए केंद्रीय सड़क एवं यातायात मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि 11 हजार करोड़ की लागत से बनने वाला ये राजमार्ग आपदा और दुर्घटना मुक्त होगा, जिसे 3 सालों में बनाकर तैयार कर दिया जाएगा।

हर चार धाम यात्रा के दौरान भूस्खलन और सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, जिसको देखते हुए इस राजमार्ग का निर्माण किया जा रहा है। 889 किमी लंबी ये सड़क परियोजना पिछले एक साल से पाइपलाइन में पड़ी हुई है।

इस सड़क परियोजना की खास बात ये है कि आसपास के गांवों और पैदल यात्रा करने वालों के लिए अलग से रास्ता बनाया जाएगा, ताकि दुर्घटनाओं से बचा जा सके। गौरतलब है कि हर साल केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री दर्शन के लिए लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। जिनको भूस्खलन, बारिश और सड़क दुर्घटनाओं का सामना करना पड़ता है।