एक मां ने अपनी ही बेटी के सुहाग को उजाड़ दिया है। रिश्तों को तार-तार करने वाली यह घटना रुड़की की है। साल 2006 में देहरादून निवासी दीपक नेगी की शादी हुई थी। पति-पत्नी में पहले दो साल तक सब कुछ सामान्य रूप से चलता रहा है, मगर तीसरे साल से पति-पत्नी के बीच दहेज को लेकर लड़ाई-झगड़े होने लगे और विवाद इतना बढ़ गया है कि नौबत तलाक तक आ गई।

बाद में दोनों पक्षों को लोगों ने समझा-बुझाकर शांत करा दिया, मगर रिश्तों में पड़ी गांठ खुल न सकी। काफी समय से दीपक अस्थायी राजधानी देहरादून में कपड़े का कारोबार करता था। एक पखवाड़े पहले दीपक की पत्नी अपने बच्चों को लेकर मयके चली गई, लेकिन जब अपने बच्चों और पत्नी से मिलने के लिए दीपक वहां गया तो वह नहीं जानता था कि वह अब वापस देहरादून नहीं लौट पाएगा।

16 जनवरी की रात को जब दीपक को उसकी सास ने खाना परोसा तो उसको क्या पता था कि इस खाने में उसे जहर दिया जा रहा है। दरअसल दीपक ने जब आधा खाना खा लिया तो उसकी तबियत खराब होने लगी। दीपक ने फौरन अपनी बहन को फोन किया और कहा कि उसे खाने में जहर दे दिया गया है।

दीपक ने अपनी बहन से कहा कि उसकी सास ने उसे खाने में जहर दिया है। इसके बाद उसकी बहन ने इसकी सूचना प्रशासन को दी। मौके पर तहसीलदार पहुंचे और उन्होंने दीपक का बयान भी दर्ज किया। बताया जा रहा है कि दीपक ने अपनी मौत के पहले जो-जो घटना हुई थी, उसको पुलिस को बता दिया।

देहरादून पहुंचने के पहले ही दीपक ने दम तोड़ दिया, फिलहाल परिजनों ने मृतक की पत्नी और उसकी मां के खिलाफ हत्या के मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई है।