धार्मिक नगरी हरिद्वार में अर्द्धकुंभ की पूरे विधि-विधान के साथ शुरुआत हो चुकी है। मुख्यमंत्री हरीश रावत की मौजूदगी में मां गंगा पूजा-अर्चना कर अर्द्धकुंभ की सफलता की कामना की गई। इस अवसर पर सीएम हरीश रावत ने राज्य का मुखिया होने के नाते श्रद्धालुओं की सुरक्षा का दावा भी किया।

इस अवसर पर सीएम हरीश रावत के अलावा शहरी विकास मंत्री प्रीतम पंवार सहित कई आला अफसर मौजूद रहे। हरीश रावत ने पूजा-अर्चना के बाद कहा कि उन्होंने अर्द्धकुंभ की सफलता और श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए मां गंगा से दुआ मांगी है।

वहीं मेलाधिकारी का कहना है कि 14 जनवरी को मकर संक्रांति के पहले स्नान के मद्देनजर सभी तैयरियां पूरी हैं। हरकी पैड़ी पर आयोजित हुआ पूजा-अर्चना का कार्यक्रम, करीब डेढ़ घंटे तक चला, जिसमें तीर्थ पुरोहित, साधु-संत और गंगा सभा के प्रतिनिधि मौजूद थे।

एक ओर हरकी पैड़ी पर ब्रह्मकुंड में मां गंगा की पूजा चल रही थी, वहीं दूसरी ओर देश के विभिन्न हिस्सों से आए श्रद्धालुओं ने मां गंगा की धारा में डुबकी लगाई। सभी श्रद्धालु अर्द्धकुंभ के इस पावन अवसर का हिस्सा बनकर खुद को सौभाग्यशाली महसूस कर रहे हैं।

इस मौके पर हरीश रावत ने लाखों रुपये की लागत की 23 योजनाओं का लोकार्पण भी किया, जिसमें हरकी पैड़ी में निर्मित धनुषाकार पुल और 3 अस्थाई स्टील ट्रस सेतू शामिल हैं। खास बात यह है कि इनमें धनुष पुल स्थायी तौर पर बनाया गया है।