नशे में बहके पुलिसकर्मी, डीएम के बंगले में पहुंचकर किया हंगामा, हुए सस्पेंड

अल्मोड़ा और पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय में पुलिस कर्मचारियों ने अपनी वर्दी की गरिमा को तार-तार कर दिया। उन्होंने किसी बात की परवाह किए बिना शराब के नशे में जमकर हंगामा किया।

अल्मोड़ा में जहां तीन पुलिसकर्मियों ने डीएम सविन बंसल के बंगले में जाकर हंगामा किया, वहीं पिथौरागढ़ कोतवाली में एक कांस्टेबल ने शराब के नशे में वहां तैनात अन्य कर्मचारियों को दबंगई दिखाई। इन चारों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।

अल्मोड़ा में पुलिस के तीन सिपाही 31 दिसंबर की रात शराब पीकर जिलाधिकारी सविन बंसल के बंगले में घुस गए और वहां हंगामा किया। उन्होंने टेलीफोन ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी के साथ मारपीट की। आरोपी पुलिसकर्मियों ने यह सब उस वक्त किया जब जिलाधिकारी अपने बंगले में ही थे।

घटना की जानकारी मिलने पर रात में ही सीओ केबी पांडे मौके पर पहुंचे और जांच के बाद तीनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया। इस मामले की जांच रानीखेत के सीओ को सौंप दी गई है।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक 31 दिसंबर की रात करीब 11.30 बजे पुलिस लाइन में तैनात कांस्टेबल पुष्कर नौलिया, चांद थापा और रानीखेत में तैनात भानु प्रताप छावनी क्षेत्र में स्थित डीएम के बंगले में घुस गए। तीनों शराब पीए हुए थे। वहां पहुंचने के बाद तीनों ने हंगामा शुरू कर दिया और टेलीफोन ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी से भिड़ गए।

आरोप है कि उन्होंने टेलीफोन ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी से गाली-गलौच और मारपीट भी की। शोर सुनने पर जिलाधिकारी सविन बंसल ने किसी कर्मचारी को बाहर भेजा। पुलिस कर्मियों द्वारा हंगामा करने की जानकारी मिलने पर डीएम ने रात में ही सीओ केबी पांडे को बंगले में बुलाया। तब तक तीनों पुलिसकर्मी वहां से फरार हो गए थे। सीओ ने डीएम आवास में तैनात पुलिसकर्मी से भी पूछताछ की।

सीओ पांडे ने बताया कि प्रारंभिक जांच के बाद प्रभारी पुलिस अधीक्षक एनएस नपलच्याल ने हंगामा करने वाले तीनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। उन्होंने बताया कि आरोपियों में पुष्कर नौलिया और चांद थापा पुलिस लाइन में तैनात थे, जबकि भानु प्रताप को ड्यूटी के लिए रानीखेत भेजा गया था।

वह बगैर बताए रात में अल्मोड़ा पहुंच गया। उन्होंने बताया कि एसपी ने इस मामले की जांच रानीखेत के सीओ गोविंद राम वर्मा को सौंप दी है। इस मामले में विभागीय जांच भी शुरू हो गई है।

उधर पिथौरागढ़ में पुलिस अधीक्षक रोशन लाल शर्मा ने नशे की हालत में कोतवाली जाने और वहां अन्य स्टाफ उलझने पर एक कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया है। एसपी ने बताया कि कांस्टेबल दीपक कुमार शुक्रवार की शाम नशे की हालत में कोतवाली पहुंच गया और वहां मौजूद स्टाफ से उलझने लगा।

कोतवाल ध्यान सिंह ने तत्काल इसकी जानकारी एसपी को दी और बाकायदा उसका मेडिकल भी कराया। एसपी ने इस तरह की हरकत को घोर अनुशासनहीनता बताते हुए तत्काल कांस्टेबल को निलंबित करने के आदेश दे दिए। एसपी ने कहा है कि पुलिसकर्मियों की अनुशासनहीनता को किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।