एक तरफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी छुट्टियां बिताने यूरोप गए हुए हैं और दूसरी तरफ उनकी मां, कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी नए साल का जश्न मनाने के लिए मसूरी की वादियों में पहुंचीं।

सोनिया गांधी शनिवार को चकराता के लाखामण्डल में प्राचीन शिव मंदिर में दर्शन करने शाम 6:30 बजे पहुची। जहां मंदिर में 10 मिनट बिताने के बाद उन्होंने कुछ ग्रामीणों से बात भी की।

सोनिया गांधी 6 गाड़ियों के काफिले के साथ दूसरी बार चकराता पहुंची। पहली बार वो राजीव गांधी के साथ यहां आई थी। सोनिया ने कुछ लोगों से बात की, जिसमें उन्होंने बताया कि राजीव गांधी के साथ उन्होंने यहां दोबारा आने का प्लान किया था, लेकिन आ नहीं पायीं।

सोनिया गांधी के कड़े सुरक्षा पहरे और बेहद गोपनीय इस यात्रा के चलते उनसे कोई भी मिल नहीं पाया।

इससे पहले नए साल की पूर्व संध्या पर सोनिया गांधी मसूरी पहुंच गईं थीं। शुक्रवार को वह विनोग हिल बर्ड सेंचुरी से सटे क्लाउंड एंड इस्टेट में करीब दो घंटे रहीं। निजी दौरे पर आईं कांग्रेस अध्यक्ष के कार्यक्रम को गोपनीय रखा गया है।

कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष अपने पारिवारिक मित्र टिका विजेन्द्र सिंह के घर ठहरीं हुईं हैं। सोनिया ने इस दौरे पर मीडिया से भी दूरी बनाकर रखी है। वहीं, सुरक्षा कर्मियों ने स्थानीय कांग्रेस नेताओं को भी सोनिया से मिलने नहीं दिया।

जानकारी के मुताबिक उनके आने की भनक स्थानीय पुलिस को भी नहीं दी गई थी।