समूचे उत्तराखंड में 52 से ज्यादा हैलीपैड बनाएगी हरीश रावत सरकार

उत्तराखंड खूबसूरती और हरियाली दुनियाभर में मशहूर है। इसी वजह से यहां हर साल लाखों पर्यटक देश-विदेश से पहुंचते हैं। हरीश रावत सरकार राज्य में पर्यटन को लेकर काफी गंभीर है, क्योंकि पर्यटन से हर साल राज्य को करोड़ों का राजस्व भी हासिल होता है। राज्य सरकार राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने और पर्यटकों के लिए सुविधाएं बढ़ाने की ओर ज्यादा फोकस कर रही है।

मुख्‍यमंत्री समय-समय पर पर्यटन विभाग की समीक्षा बैठक लेकर भी खुद सारे इंतजामों को जांच रहे हैं। वहीं राज्य के पर्यटन को विश्व स्तर तक पहुंचाने के लिए सरकार कई योजनाओं को सामने ला रही है। राज्य सरकार किस तरह प्रदेश के पहाड़ों की ओर पर्यटकों का रुझान बढ़ा रही है।

पर्यटन से राज्य को मुख्य आय होती है, जिस कारण राज्य सरकार प्रदेश की आय बढ़ाने के लिए प्रदेश के पर्यटन को बढ़ावा देने जा रही है। उत्तराखंड में सैकड़ों पहाड़ी क्षेत्र सुन्दर और ऐतिहासिक हैं, जिनको लेकर सरकार ने पर्यटन विभाग को निर्देशित किया है कि वे इन स्थानों तक पर्यटकों को पहुंचाने के हर संभव प्रयास करें। राज्य में कई पर्यटन स्थल दूरस्थ और अति दुर्लभ हैं, लेकिन वे अतुल्य स्थानों में गिने जाते हैं। इस कारण राज्य सरकार वहां पर्यटकों को पहुंचाने की कोशिश कर रही है।

देश-विदेश में उत्‍तराखंड के ये पर्यटक और ऐतिहासिक स्थान जाने जाते हैं। इनके लिए सरकार कई प्रमुख धार्मिक, ऐतिहासिक, रमणीय और साहसिक क्षेत्रों में पर्यटन के अवसर तलाश रही है। साथ ही सुविधाओं को मजबूत भी कर रही है। मुख्यमंत्री के औद्योगिक सलाहकार रणजीत रावत बताते हैं कि राज्य सरकार का लक्ष्य है कि राज्य में हर मौसम में पर्यटक पहुंचें। क्योंकि राज्य में हर मौसम के लिए पर्यटन के क्षेत्र हैं।

बड़ी संख्या में लोग धार्मिक स्थलों में पहुंचते हैं और पहाड़ी क्षेत्रों का आनंद लेते हैं। वहीं, अब राज्य में साहसिक पर्यटन में भी लोग रुचि लेने लगे हैं, जिसके चलते वे टिहरी झील में स्टीमर का आनंद लेने, ऋषिकेश में राफ्टिंग और शिवपुरी में बंजी जम्पिंग के लिए पहुंच रहे हैं।

औद्योगिक सलाहकार रणजीत सिंह का कहना है कि राज्य में पर्यटक सीमांत क्षेत्रों तक पहुंच सकें, इसके लिए राज्य सरकार हवाई सेवाओं को बेहतर करने जा रही है। इसके लिए देहरादून और पंतनगर को जोड़ने के लिए जल्द ही हवाई सेवा शुरू की जानी है, जिससें मसूरी या चारधाम आए पर्यटक नैनीताल और जागेश्वर धाम के कम समय में दर्शन कर पाएं। वहीं पिथौरागढ़ और चिनियालीसौंड़ को हवाई यात्रा से जोड़ने के पायलट प्रोजेक्ट पर भी सरकार कार्य कर रही है।

राज्य में सरकार 52 से ज्यादा नए हैलीपैड बना रही है, जहां से पर्यटकों को राज्य के किसी भी क्षेत्र में पहुंचने के विकल्प मिलेंगे। हिमालय दर्शन योजना को लेकर सरकार और ज्यादा बेहतर निर्णय ले रही है। मुख्यमंत्री के औद्योगिक सलाहकार रणजीत रावत का कहना है कि राज्य में चारधाम यात्रा भी पटरी पर आ चुकी है। जहां हर साल 12 लाख यात्री चारधाम पहुंचते थे। वहीं इस साल 10 लाख से ज्यादा यात्री चारधाम यात्रा क्षेत्रों में पहुंचे हैं, जो राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों को बताने के लिए काफी हैं।

उन्‍होंने कहा कि राज्य की हरीश रावत सरकार राज्य के पर्यटन को लेकर गंभीर है, क्योंकि राज्य का पर्यटन बेहतर होगा तो अपने आप ही राज्य की आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी। जिससे राज्य को विकसित राज्यों के मुकाबले खड़े होने में देर नहीं लगेगी। साथ ही राज्य के आर्थिक रूप से मजबूत होने से केंद्र सरकार पर निर्भर होने की जरूरत भी कम पड़ेगी।