उत्तराखंड के पौड़ी जिले में कुषोषित बच्चों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। अकेले साल 2015 की ही बात की जाए तो यहां करीब 78 बच्चों में कुपोषण के लक्षण पाए गए हैं।

पौड़ी के दुगड्डा ब्लॉक में सबसे ज्यादा 29 बच्चे कुपोषित पाए गए हैं। जिला पौड़ी के मुख्य चिकित्साधिकारी मनीष अग्रवाल की मानें तो पौड़ी में कुपोषण के लगातार बढ़ते मामले चिंता का विषय हैं।

बच्चों में कुपोषण की बीमारी को रोकने के लिए आंगनवाड़ी केन्द्रों पर पौष्टिक आहार निशुल्क भी वितरित किया जा रहा है, लेकिन यह आहार बच्चों को नहीं मिल पा रहा है। साल 2015 की पौड़ी की कुपोषण बच्चों की रिपोर्ट के सामने आने के बाद स्वास्थ्य महकमे में भी हड़कम मचा हुआ है।

दुगड्डा ब्लॉक का अधिकांश क्षेत्र शहरी क्षेत्र है और ऐसे में इस ब्लॉक में 29 कुपोषित बच्चों के सामने आने से सरकारी योजनाओं की पोल भी खुल गई है।

हालांकि सीएमओ डॉ. मनीष अग्रवाल का कहना है कि जो बच्चे कुपोषित पाए गए हैं, वह अधिकांश ग्रामीण क्षेत्र के हैं जिनको पौष्टिक आहार दिया जा रहा है।