सांकेतिक तस्वीर

अस्थायी राजधानी देहरादून में नंदा की चौकी के पास 11 हजार वोल्ट का बिजली का तार छू जाने से बच्चों से भरी स्कूली बस में करंट फैल गया। कई बच्चों को झटके लगे तो बस में हाहाकार मच गया। इसी बीच बस के पहिये में आग लग गई तो बस में धुआं फैल गया।

ड्राइवर व टीचर की सूझबूझ और लोगों की मदद से करीब 50 बच्चों को एक-एक करके बस से तुरंत बाहर निकाला गया। करीब सात बच्चों को इलाज के लिए अस्पताल लाया गया था, लेकिन फर्स्ट एड के बाद छुट्टी दे गई। पुलिस और फायर ब्रिगेड ने मौके पर पहुंचने में देरी नहीं की।

प्रेमनगर के पौंधा रोड स्थित महर्षि विद्या मंदिर की स्कूली बस सोमवार सुबह पौने नौ बजे छठी से 11वीं कक्षा के करीब 50 बच्चों को लेकर स्कूल जा रही थी। नंदा की चौकी से आगे निकलने के बाद पौंधा रोड पर 11 हजार वोल्ट की बिजली लाइन के दो तार सड़कों के बीच झूल रहे थे।

बताया गया था कि तारों में करंट नहीं है। ड्राइवर ने बस को तारों से बचाकर निकालने की कोशिश की, लेकिन इसी बीच एक तार बस की छत को छू गया। इसके बाद पूरी बस में करंट फैल गया। बस को रोक दिया गया।

बच्चों ने बस की बॉडी से हाथ लगाया तो कई को तेज झटका लगा, जिससे वह चीखने-चिल्लाने लगे। गनीमत रही कि दूसरा तार बस से दूर रहा, वरना बड़ा हादसा हो सकता था।

करंट के कारण बस के एक पहिये में आग लग गई। पहिये का धुआं निकलकर बस के अंदर भर गया। इसी बीच आसपास के लोग आए तो ड्राइवर बॉबी, टीचर अनिता भाटिया निवासी प्रेमनगर और पीटीआई देवेंद्र शर्मा की मदद से बच्चों को चेन के जरिये बस से बाहर निकाला गया।