राज्यस्तरीय हॉकी टूर्नामेंट में मेजबान हल्द्वानी को हराकर देहरादून बना चैंपियन

राज्यस्तरीय हॉकी टूर्नामेंट के फाइनल मुकाबले में देहरादून ने मेजबान हल्द्वानी को हराकर चैंपियनशिप अपने नाम कर ली। अंतिम क्षणों में शिखा रावत के गोल की मदद से देहरादून ने हल्द्वानी को 2-1 से हराया। ओलंपियन आरएस रावत ने विजेता और उप-विजेता टीमों को ट्रॉफी दी।

स्पोर्ट्स स्टेडियम हल्द्वानी में चल रही हॉकी प्रतियोगिता का फाइनल मुकाबला देहरादून और हल्द्वानी के बीच खेला गया। शुरुआत से ही नेशनल खिलाड़ियों से सुसज्जित दोनों टीमों ने शानदार खेल दिखाया। मैच के तीसरे मिनट में ही देहरादून की अंकिता ने गोल कर अपनी टीम को 1-0 से आगे कर दिया।

इसके बाद दोनों टीमों ने एक-दूसरे के गोल पोस्ट में लगातार हमले जारी रखे, लेकिन किसी को कामयाबी हासिल नहीं हुई। दूसरे हॉफ में भी दोनों टीमों ने शानदार खेल दिखाया। मैच के 42वें मिनट में हल्द्वानी की मोनिका ने गोल करके मैच को बराबरी पर ला दिया। एक बार मैच एक्सट्रा टाइम की ओर जाता दिखा रहा था कि मैच के 66वें मिनट में शिखा रावत ने गोल कर देहरादून को 2-1 से आगे कर दिया। अंतिम समय तक देहरादून ने यही स्थिति बनाए रखी और मैज में जीत दर्ज की। मैच के निर्णायक एसएस अधिकारी और भानु अग्रवाल थे।

टूर्नामेंट में पहुंचे ओलंपियन आरएस रावत का मानना है कि खिलाड़ियों को जितना अधिक खेलने का मौका मिलेगा, उतना ही उनमें निखार आएगा। उन्होंने कहा कि टूर्नामेंट काफी कम हो रहे हैं। खिलाड़ी साल भर मेहनत करते हैं, लेकिन जब उन्हें टूर्नामेंट खेलने का मौका ही नहीं मिलेगा, तो वे आगे कुछ नहीं कर सकते। साल भर में एक या दो टूर्नामेंट होते हैं, ऐसे में खिलाड़ी आगे कैसे बढ़ेंगे।

नैनीताल निवासी रावत कहते हैं कि फाइनल मुकाबला देखकर काफी मजा आया। दोनों ही टीमें शानदार थीं। लड़कियां काफी अच्छी हॉकी खेल रहीं हैं। इन्हें मौका मिलते रहना चाहिए। उन्होंने माना कि फाइनल मैच में लड़कियां सेल्फ हॉकी ज्यादा खेल रही थीं, जबकि उन्हें पास देकर हॉकी खेलनी चाहिए।