साल 2016 में धार्मिक नगरी हरिद्वार में 14 जनवरी से लगने वाले अर्द्धकुंभ मेले के संबंध में आम लोगों के लिए एक खुशखबरी है। खबर यह है कि इस दौरान अति विशिष्ट और विशिष्ट व्यक्तियों के लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं हो पाएगी। यहां हर कोई बराबर होगा और हर कोई बराबरी के अधिकार के साथ पवित्र गंगा में डुबकी लगा पाएगा।

उत्तराखंड के राज्यपाल डॉ. कृष्णकांत पाल ने कहा है कि राज्य सरकार अन्य राज्यों को साफ-साफ सूचित करे कि अर्द्धकुंभ के दौरान अति विशिष्ट और विशिष्ट व्यक्तियों के लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं हो पाएगी।

उधर, सरकार का दावा है कि अधिकतर निर्माण कार्य 31 दिसंबर तक पूरे कर लिए जाएंगे। गुरुवार को अर्द्धकुंभ तैयारी की समीक्षा बैठक में राज्यपाल ने कहा कि तीर्थ यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए अति विशिष्ट या विशिष्ट व्यक्तियों के लिए अलग से विशेष व्यवस्था किया जाना संभव नहीं हो पाएगा।

haridwar

इसलिए समय रहते यह जानकारी अन्य राज्यों को दे दी जाए। राज्यपाल ने सुरक्षा के मामले में कोई चूक न रहने की सख्त हिदायत भी दी। 14 जनवरी 2016 से हरिद्वार में अर्द्धकुंभ शुरू होने जा रहा है। इसके लिए राज्यपाल का कहना था कि अर्द्धकुंभ की हर व्यवस्था का गौर से अध्ययन किया जाए और किसी भी स्तर पर कोई कमी न रहने पाए।

साथ ही अर्द्धकंभ की व्यवस्थाओं की जानकारी समय-समय पर मीडिया को भी दी जाए। अब तक की तैयारियों पर संतोष जताते हुए राज्यपाल ने अधिकारियों को इसे सफलतापूर्वक संपन्न कराने के लिए सभी स्रोतों व संसाधनों का बेहतर उपयोग करने का भी सुझाव दिया।

अधिकारियों ने राज्यपाल को स्नान स्थल, आवागमन, ट्रैफिक प्लान, भीड़ नियंत्रण, सड़क तथा पुल निर्माण, घाट, शिविर, विद्युत व्यवस्था, पेयजल, शौचालय, स्वच्छता, चिकित्सा, भोजन, सुरक्षा आदि की जानकारी दी। उन्हें बताया गया कि सभी प्रमुख कार्य करीब-करीब पूरे हो चुके हैं। बचे हुए काम भी 31 दिसंबर तक पूरे करा लिए जाएंगे।