उत्तराखंड वन विभाग ने नैनीताल जिला मुख्यालय से 50 किलोमीटर दूर बहरानी क्षेत्र में बाघ की खाल बरामद की है। वन विभाग की टीम ने इस मामले में तीन संदिग्ध तस्करों को भी गिरफ्तार किया है।

कुमाऊं रेंज के मुख्य वन संरक्षक डॉ. राजेंद्र सिंह बिष्ट ने बताया कि संदिग्ध तस्करों की गिरफ्तारी मंगलवार को नैनीताल-हल्द्वानी राज्य राजमार्ग पर स्थित एक होटल में हुई, जब वे करीब दो-चार महीने पुरानी बाघ की खाल को लेकर बेचने पहुंचे।

बिष्ट ने बताया कि बरामद खाल करीब नौ साल के बाघ की है। गिरफ्तार संदिग्ध तस्करों की पहचान जिले के ही पीपलपड़ाव क्षेत्र के रहने वाले गाबा और बहरानी गांव के रहने वाले यासीन और मोहम्मद शफी के रूप में की गई है।

उन्होंने कहा कि बाघ की खाल की बरामदगी को काफी अहम माना जा रहा है, क्योंकि गिरफ्तार संदिग्ध तस्करों के तार हाई प्रोफाइल पेशेवर शिकारियों से भी जुड़े हो सकते हैं।