नैनीताल जिले में हल्द्वानी वन प्रभाग की गश्ती टीम को ओखलकांडा के दूरस्थ जंगल में एक गुफा मिली है। गुफा देखकर अचरज में पड़ी टीम ने जब इसके अंदर जाकर देखा तो वहां चमगादड़ों की फौज मिली है।

अब उन्होंने सुरक्षा और रोशनी लेकर विशेषज्ञों की टीम के साथ गुफा के अंदर जाने का फैसला किया गया है। इसमें डीएम भी शामिल होंगे। ओखलकांडा का इलाका काफी दुर्गम है, जिसके चलते उसके काफी इलाके के बारे में लोगों को अब तक जानकारी ही नहीं है।

हल्द्वानी वन प्रभाग के डीएफओ डॉ. चंद्रशेखर सनवाल कहते हैं कि आरओ कांडा विनय त्रिपाठी, गिरीश नौटियाल के निर्देशन में एक गश्ती पतलोट-गुनियारो मार्ग के कुंडल वन पंचायत ग्राम के पास गश्त को गई थी। टीम को इलाके से काफी दूरी पर एक गुफा मिली है।
cave-Nainital

टीम ने उसकी जीपीएस लोकेशन, फोटोग्राफ आदि लिए हैं। यह गुफा कहां तक जाती है, उसके अंदर और क्या है, आदि की खोजबीन के लिए विशेषज्ञ, संसाधनों के साथ एक और टीम भेजी जाएगी। इस गुफा के मिलने से इस इलाके में टूरिज्म व अन्य गतिविधियां तेज होंगी। जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा।

cave-nainital1इसी साल अक्टूबर में भी नैनीताल जिले में कुछ गुफाएं मिली थीं

अन्य कोशिशें भी की जा रही हैं। जिला अधिकारी दीपक रावत का कहना है कि ओखलकांडा के अलावा चोपड़ा गांव में भी एक गुफा मिलने की जानकारी है। वह खुद इन गुफाओं की खोजबीन के लिए जाएंगे। इसे पर्यटन स्थल की तरह विकसित करने की संभावनाओं पर भी विचार किया जाएगा।