उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी देहरादून में अगले साल अप्रैल से फुटबॉल के महाकुंभ का आयोजित होने जा रहा है। उत्तराखंड सुपर लीग (USL) नाम से यह आयोजन कराया जाएगा।

फुटबॉल में राष्ट्रीय लीग ISL की तर्ज पर यह आयोजन कराने की तैयारी की जा रही है। राज्य के सभी तेरह जिलों की टीमें इस आयोजन में हिस्सा ले पाएंगी, साथ ही एक अन्य टीम चौदहवें नंबर पर होगी।

उत्तराखंड सुपर लीग में प्रत्येक जिले की टीम में उस जिले के पांच खिलाड़ियों का प्रतिनिधित्व होना जरूरी होगा, जिससे पहाड़ के खिलाड़ियों को भी बेहतर मौका मिल सके। आयोजन के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में वीरेन्द्र रावत के अलावा डीएफए के संस्थापक वीएस रावत और शंकर सागर को भी नामित किया गया है।

वीरेंद्र रावत का कहना है कि आयोजन को सफल बनाने के लिए हर सम्भव कोशिश की जा रही है, साथ ही पहाड़ के खिलाड़ियों को भी पूरा मौका दिया जाएगा। डीएफए के संस्थापक वी.एस रावत का कहना है कि फुटबॉल टूर्नामेंट के आयोजन में अन्तरराष्ट्रीय मानकों का पूरा ध्यान रखा जाएगा।

आयोजन में टीमों की फ्रेंचाइजी और खिलाड़ियों को दी जाने वाली रकम के साथ ही दूसरे मामलों में भी पूरी पारदर्शिता बरती जाएगी।