टिहरी जिले की देवप्रयाग विधानसभा से साल 2012 के विधानसभा चुनावों में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में धमाकेदार जीत दर्ज करने वाले कैबिनेट मंत्री मंत्री प्रसाद ने अभी अपने चुनावी पत्ते नहीं खोले हैं।

साल 2012 में बीजेपी प्रत्याशी दिवाकर भट्ट और पूर्व कैबिनेट मंत्री कांग्रेस नेता शूरवीर सिंह सजवाण को धूल चटाकर राज्य विधानसभा में पहुंचे मंत्री प्रसाद नैथानी ने सरकार में अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करने के बाद बीजेपी और कांग्रेस में शामिल होने के फैसले को अपने कार्यकर्ताओं पर छोड़ दिया है।

कैबिनेट मंत्री प्रसाद ने किसी भी पार्टी में शामिल होने के निर्णय को अपने कार्यकर्ताओं पर छोड़ते हुए कहा कि जिन कार्यकर्ताओं के बल पर उन्होंने देवप्रयाग विधानसभा सीट से चुनाव जीता है, उन्हीं से सलाह-मशविरा करने के बाद ही अगले विधानसभा चुनाव के लिए रणनीति बनाई जाएगी।

राज्य की वर्तमान हरीश रावत सरकार की कार्यशैली की तारीफ करते हुए मंत्री प्रसाद नैथानी ने कहा कि जिस प्रकार से मौजूदा सरकार काम कर रही है, उसको देखते हुए लग रहा है कि जनता में उनकी विश्वसनियता बढ़ रही हैं।

वहीं उनके कार्यकाल पर उठाए जा रहे सवालों के जबाब में मंत्री प्रसाद नैथानी ने कहा कि जो व्यक्ति कांग्रेस से टिकट मिलने के बावजूद साल 2012 में अपनी जमानत तक नहीं बचा पाया हो, आज वही सवाल उठा रहा है, जो कहीं से भी गले नहीं उतरता।

गौरतलब है कि पूर्व कैबिनेट मंत्री शूरवीर सिंह सजवाण ने मंत्री प्रसाद नैथानी के कार्यकाल पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा कि जनता ने जिसको पूरी तरह से नकार दिया हो, वो अब जनता को भ्रमित करने का काम कर रहा है। साथ ही कहा कि जनता कोरी बयानबाजी को अच्छी तरह से समझ चुकी है और वो अब विकास के साथ में है।