शुक्रवार तड़के से केदारनाथ, बद्रीनाथ, हेमकुंड साहिब, फूलों की घाटी, लाल माटी, रुद्रनाथ, पित्रधार, औली बुग्याल सहित ऊंची चोटियों पर जमकर बर्फबारी हुई। केदारनाथ में दो फीट से अधिक बर्फ गिर चुकी है। उत्तरकाशी जिले के यमुनोत्री, गंगोत्री तथा हरकीदून घाटी सहित साढ़े सात हजार फीट से अधिक ऊंचाई वाले करीब 40 गांवों में बर्फ की मोटी चादर बिछ गई है।

भारी बर्फबारी के कारण केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्य भी प्रभावित हुए हैं। साथ ही ठंड बढ़ गई है, जिस कारण पुनर्निर्माण कार्यों के लिए केदारनाथ में मौजूद मजदूरों को भारी ठंड का सामना करना पड़ रहा है और काम बाधित हुआ है।

रुद्रप्रयाग जिले में शुक्रवार सुबह से ही रुक-रुककर बर्फबारी होने से तुंगनाथ और मद्महेश्वर सहित जिले के ऊंचाई वाले इलाकों में एक फीट से अधिक बर्फ गिर गई है। इससे निचले इलाकों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। रुद्रप्रयाग में सुबह 7 बजे तापमान 8 डिग्री सेल्सियस था, जो दोपहर बाद 3 बजे 12 डिग्री तक पहुंच पाया।

उधर, केदारनाथ में सुबह 4 बजे से बर्फबारी हो रही है। मंदिर सहित नेहरू युवा केंद्र के कैंप से लेकर एमआई-26 हेलीपैड और पुलिस बेस कैंप तक दो फीट से अधिक बर्फ जम चुकी है। केदारनाथ में अधिकतम तापमान 2.3 और न्यूनतम तापमान माइनस 4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

snowfall-uttarakhand

निम के मोहन सिंह नेगी ने बताया कि शुक्रवार सुबह से गिर रही बर्फ से रास्ते बंद हो गए। इधर, छानी कैंप, लिनचौली, छोटी लिनचौली, रामबाड़ा और जंगलचट्टी आधा से एक फीट तक बर्फ गिर चुकी है। मौसम के इस मिजाज से गौरीकुंड, फाटा, रामपुर, गुप्तकाशी और ऊखीमठ में शीतलहर से कड़ाके की ठंड पड़ रही है।

सुबह से बारिश तथा दोपहर से यमुनोत्री, गंगोत्री तथा हरकीदून घाटी के ऊंचाई वाले गांवों में बर्फबारी तथा निचले क्षेत्रों में रिमझिम बारिश से कड़ाके की ठंड पड रही है। बर्फबारी से साढ़े सात हजार फीट से ऊंचाई वाले करीब 40 गांवों में बर्फ की मोटी चादर बिछ गई है।

गंगोत्री घाटी के रैथल गांव से 500 मीटर ऊपर उपला टकनौर के सभी आठ गांव तथा आसपास भंगेली, हुर्री तक बर्फबारी शुरू हो गई है। यमुनोत्री घाटी के बीफ तथा खरसाली गांव तथा हरकीदून घाटी के सांकरी से ऊंचाई पर स्थिति गांवों में दोपहर से बर्फबारी जारी रही।

snowfall

शुक्रवार को तड़के से ही बद्रीनाथ, हेमकुंड साहिब, फूलों की घाटी, लाल माटी, रुद्रनाथ, पित्रधार, औली बुग्याल सहित ऊंची चोटियों पर जमकर बर्फबारी हुई। औली में बर्फबारी होने से जोशीमठ में लोग दिनभर अपने घरों में दुबके रहे। यहां बर्फबारी को सेब की फसल के लिए लाभकारी बताया जा रहा है।

काश्तकार मोहन सिंह का कहना है कि यह बर्फबारी सेब की फसल के लिए लाभदायक होगी। जिले के निचले क्षेत्रों में बारिश होने से कड़ाके की ठंड पड़ रही है। प्रभारी जिलाधिकारी संजय कुमार खेतवाल ने सभी नगर पालिका और नगर पंचायतों को नगर व कस्बा क्षेत्रों में अलाव की समुचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।