सांकेतिक तस्वीर

हरिद्वार स्थित एक नवरत्न संस्थान के वरिष्ठ अधिकारी पर नौकरी दिलाने के नाम पर एक युवती ने यौन उत्पीड़न का सनसनीखेज मामला सामने है। युवती का आरोप है वह शिकायत लेकर कोतवाली से लेकर डीजीपी तक जा चुकी है, सभी ने जांच का आश्वासन भी दिया, लेकिन आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।

यहां तक कि पुलिस ने आज तक उसकी शिकायत पर रिपोर्ट तक नहीं लिखी है। युवती ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, महिला एवं बाल कल्याण मंत्री, राष्ट्रीय महिला आयोग, भारी उद्योग मंत्री, राज्यपाल, डीएम आदि से शिकायत करते हुए कार्रवाई न होने पर इच्छामृत्यु की मांग की है।

युवती की ओर से दिए गए शिकायती पत्र के अनुसार वह संस्था में साल 2008 से संविदा कर्मचारी के रूप में कार्यरत है। आरोप है एक अधिकारी ने उसकी नौकरी पक्की करवाने का झांसा देकर दो साल तक यौन उत्पीड़न किया। जब दिल्ली स्थित संस्था के हेड ऑफिस में जीएम की शिकायत की गई तो रिटायर होने से कुछ दिन पहले उसे निलंबित कर दिया।

संस्था की जांच रिपोर्ट में जीएम को दोषी नहीं ठहराया गया है। युवती का आरोप है आरोपी और संस्था के कुछ अधिकारी उस पर शिकायत वापस लेने का दबाव बना रहे हैं। जिसके चलते वह मानसिक रूप से परेशान है। पीड़ित ने आरोपी की पुलिस और कई अधिकारियों से शिकायत भी की है। उसे जो आवास आवंटित किया गया था, वहां से उसका सामान कर्मचारी उठा ले गए और मारपीट कर भगा दिया।

मामले की शिकायत करने के बाद भी पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। जिससे आहत युवती ने शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न और नौकरी से निकाल देने पर न्याय न मिलने पर इच्छा मृत्यु की मांग की है। एसएसपी सैंथिल अबुदई कृष्णराज एस ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में नही है। जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।