योग गुरु से बिजनेस गुरु बनते जा रहे बाबा रामदेव एक के बाद एक मुश्किलों में घिरते जा रहे हैं। हरियाणा के जिंद में पतंजलि आटा नूडल्स में कीड़ा मिलने के बाद अब हरिद्वार में पतंजलि के शुद्ध देशी घी में फफूंदी लगने का मामला सामने आया है।

हरिद्वार में भारत हेवी इलेक्ट्रीकल्स लिमिटेड (भेल) के वरिष्ठ अधिकारी अश्विनी गर्ग ने पतंजलि गाय का शुद्ध देशी घी खरीदा था, जिसकी मैन्युफैक्चरिंग डेट 15 सितंबर थी और घी के डिब्बे पर बेस्ट बिफोर 9 मंथ लिखा था। इसका मतलब यह घी 15 सितंबर से लेकर 15 जून तक खराब नहीं होगा, लेकिन अश्विनी गर्ग के अनुसार पंतजलि के शुद्ध देशी घी में फफूंदी लगी हुई थी। घी के डिब्बे का बैच नंबर केडी 399 छपा हुआ है।

पतंजलि के ये सभी उत्पाद जांच में हो चुके हैं फेल
1. सरसों का तेल
2. पतंजलि शुद्ध हनी
3. पतंजलि का आरोग्य बेसन
4. काली मिर्च पाउडर

कुल 6 उत्पाद जांच में फेल हो चुके थे, जिसके सम्बन्ध में जिला खाद्य निरीक्षक ने कोर्ट में केस दर्ज कराया था। फिलहाल यह सभी मामले कोर्ट में विचाराधीन हैं।

भेल के वरिष्ठ अधिकारी अश्विनी गर्ग का कहना है की वह देशी घी तो पहले से खा रहे हैं और उन्हें बाबा के घी पर काफी विश्वास था। दूसरे घी से महंगा होने के बावजूद हमने इसे खरीदा, लेकिन इसमें फफूंदी लगी हुई थी।

अश्वनी गर्ग का कहना है की घी में फंगस लगना गलत है। यह लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ है। इनके उत्पाद पहले भी जांच में फेल हुए हैं और अब तो हमने अपनी आंखों के सामने यह देखा है तो इसकी गहराई से जांच होनी चाहिए ताकि इससे किसी की सेहत को नुकसान न हो।

सस्ते देशी घी को छोड़ इतना महंगा पतंजलि का घी लेने वाले अश्वनी गर्ग की पत्नी रेखा गर्ग का कहना है कि लोगों को इस तरह गुमराह नहीं करना चाहिए। पहले उत्पाद को परख लेना चाहिए फिर बाजार में देना चाहिए।

बता दैं कि हाल ही में हरियाणा के जींद के नरवाना में एक व्यक्ति ने पतंजलि नूडल्स में कीड़े होने का आरोप लगाया था। नरवाना निवासी विनोद ने स्थानीय स्वदेशी केंद्र से नूडल्स लिए थे। घर जाकर देखने पर इसमें कीड़े पाए गए।

उपभोक्ता ने इसकी शिकायत स्वदेशी केंद्र के संचालक से की। उन्होंने यह स्वीकार किया कि पैकेट उन्हीं से खरीदा गया था। वहीं इस मामले में बुधवार को स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी ने कहा है की सरकार रामदेव के आटा नूडल्स की जांच कराएगी।

उल्लेखनीय है कि हाल ही में बाबा ने स्वदेशी पतंजलि आटा नूडल्स लॉन्च किया था। FSSAI से अनुमति के बिना बिक्री शुरू करने के कारण यह पहले ही विवादों में है। इसके लिए भी संस्थान को नोटिस दिया गया था।