देहरादून स्मार्ट सिटी योजना को लेकर मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी द्वारा लगातार की जा रही बयानबाजी से परेशान मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा की अगर यही हाल रहा तो राज्य सरकार इस योजना से किनारा कर लेगी। चाय बागान की जमीन को लेकर लगातार उठ रहे सवालों के जवाब में सीएम ने यह बयान दिया है।

दरअसल, बीजेपी देहरादून के चाय बागान को स्मार्ट सिटी योजना के लिए इस्तेमाल किए जाने के खिलाफ है। पार्टी का मानना है कि इस जमीन के जरिए कांग्रेस सरकार बड़ा घोटाला करने की कोशिश कर रही है। इसी को लेकर बीते दिनों नेता प्रतिपक्ष अजय भट्ट व हरिद्वार से बीजेपी सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल ने कड़े बयान भी दिए थे।

दोनों ने सीधे मुख्यमंत्री पर हमला किया था कि वह पर्सनल इंट्रेस्ट के लिए इस बेशकीमती जमीन का सौदा करना चाहते हैं। बीजेपी का कहना है असल खेल सरकार इस जमीन की सौदेबाजी में करना चाहती है।

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बीजेपी के दोनों नेताओं को दो टूक जवाब दिया है। सीएम ने कहा, चलिए अजय भट्ट या फिर निशंक जी ही बता दें कि स्मार्ट सिटी के लिए कहां की जमीन इस्तेमाल की जाए। देहरादून में कहां एक साथ इतनी बड़ी जमीन मिलेगी, जहां स्मार्ट सिटी बनाई जा सके।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अगर बीजेपी चाहे तो वह एक कमेटी भी बनाने को तैयार हैं, जिसमें उनके सदस्य भी शामिल होंगे। अगर विपक्षी दल इस पर तैयार है तो ठीक है वरना इस योजना से पीछे ही हटना बेहतर होगा।