सांकेतिक तस्वीर

धार्मिक नगरी हरिद्वार में तमाम तरह के कुकर्म इन दिनों सामने आ रहे हैं। अब हाथरस की एक किशोरी से जिस्मफरोशी कराने का मामला सामने आया है। हरिद्वार पुलिस ने जिस्मफरोशी करा रहे एक युगल को धर दबोचा है।

नगर पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह भुल्लर ने बताया कि भूपतवाला की मुखिया गली के अखंड गीता मंदिर गोशाला आश्रम में एक किशोरी को युगल ने रखा हुआ था। आरोपी देवकी नंदन शर्मा, उसकी कथित पत्नी मिथलेश निवासी डंडेवाला मोहल्ला कस्बा बिलारी जिला मुरादाबाद किशोरी से जिस्मफरोशी करा रहे थे।

देवकीनंदन भी किशोरी के साथ रेप करता चला आ रहा था। एसपी सिटी ने बताया कि पिता की मौत के बाद आर्थिक तंगी के चलते पिछले साल किशोरी हाथरस के ही खुशी ब्यूटी पार्लर में ब्यूटीशियन का काम सीख रही थी।

पार्लर संचालिका प्रेमवती, उसका पति तेजवीर उसे दिल्ली ले गए थे। दिल्ली में तेजवीर ने उसके साथ रेप किया था। फिर तेजवीर के बेटे भानु ने भी उसे अपनी हवस का शिकार बनाया था।

पीड़ित ने बताया कि भानु ही किशोरी को यहां लाया था और चंडीघाट चौक के पास एक आश्रम में उसकी मुलाकात देवकीनंदन से हुई थी। अक्टूबर से किशोरी देवकीनंदन के साथ ही रह रही थी। तब से वह उसके साथ रेप कर रहा था।

आरोपी देवकीनंदन और उसकी कथित पत्नी मिथलेश उससे जिस्मफरोशी करा रहे थे। एसपी सिटी के अनुसार किशोरी की शिकायत पर युगल एवं हाथरस के परिवार के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। युगल के कमरे से एक देसी तमंचा भी बरामद हुआ है। युगल को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेजा गया है।

किशोरी के हलक से आवाज नहीं निकल रही थी, लेकिन कथित पति-पत्नी के बीच हुए विवाद से ही पूरे मामले से पर्दा उठ गया। दरअसल, देवकीनंदन की पत्नी बनकर रह रही मिथलेश के बीच किशोरी को लेकर ही विवाद हुआ।

मिथलेश ने किशोरी के साथ संबंध बनाने पर ऐतराज जताया। फिर बात ऐसी बिगड़ी की मिथलेश ने पुलिस का दरवाजा खटखटाया। लेकिन उसने यह नहीं सोचा था कि वह भी कानून के शिकंजे में फंस जाएगी। उसने देवकीनंदन की पूरी पोल-पट्टी खोलकर रख दी और फिर पुलिस ने किशोरी को मुक्त करा लिया।