उत्तराखंड में बेतालघाट को नैनीताल जिला मुख्यालय से जोड़ने वाले रतौड़ा पुल सात साल बाद भी अस्तित्व में नहीं आ सका है। उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्या ने रतौड़ा का दौरा कर पुल निर्माण में हो रही देरी का जायजा लेकर पुल निर्माण को जल्द ही पूरा करने का भरोसा जताया है।

गौरतलब है की रतौड़ा पुल बनने से बेतालघाट ब्लॉक की जिला मुख्यलय से दूरी काफी कम हो जाएगी। साथ ही स्थानीय लोगों को भी इस पुल के बनने से काफी फायदा होगा। किसान काश्तकारों को अपनी फसलें मंडी तक ले जाने में भी इस पुल से मदद मिलेगी।

गौरतलब है कि रतौड़ा में 2006 में कोसी नदी पर रतौड़ा पुल स्वीकृत हुआ था, जिसके बाद 2008 से यहां पुल निर्माण का काम शुरू किया गया था। साल 2013 में आई आपदा के दौरान पुल का कुछ हिस्सा पानी के साथ बह गया था।

इसके बाद ठेकेदार ने पुल निर्माण से अपने हाथ पीछे खींच लिए, जिसके बाद विभाग ने नए ठेकेदार से पुल निर्माण का काम शुरू जरूर कराया, लेकिन अब तक पुल नहीं बन सका है। इसके साथ ही 651 लाख में स्वीकृत हुए इस पुल के लिए दोगुने से भी ज्यादा खर्च किया जा चुका है।

पुल निर्माण में कार्यरत लोक निर्माण विभाग ने कहा है कि मार्च तक इस पुल का निर्माण पूरा कर लिया जाएगा, जिसके बाद जनता के आवाजाही के लिए पुल को खोल दिया जाएगा।