अगले साल जनवरी में धार्मिक नगरी हरिद्वार में अर्द्धकुंभ की धूम होगी। यही कारण है कि समय से दो महीने पहले ही हरिद्वार में पंचायत चुनाव का बिगुल बज गया है। शनिवार को राज्य निर्वाचन आयोग ने हरिद्वार जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में आचार संहिता लागू करने की अधिसूचना जारी कर दी।

राज्य निर्वाचन आयोग में मीडिया से बात करते हुए राज्य निर्वाचन आयुक्त सुवर्द्धन ने कहा कि आचार संहिता से जारी विकास कार्य प्रभावित नहीं होंगे। आयुक्त ने पंचायत चुनाव कार्यक्रम भी घोषित किया। राज्य में पहली बार पंचायत चुनाव तीन चरणों में होंगे। पांच जनवरी 2016 को मतगणना होगी।

आयुक्त के मुताबिक आचार संहिता हरिद्वार जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में प्रभावी होगी। एक दिसंबर से आयोग आचार संहिता के उल्लंघन के मामलों की सख्ती से निगरानी करेगा। हरिद्वार में पंचायत चुनावों की एक खास बात यह भी है कि इस बार के चुनाव में पिछले चुनाव की तुलना में पंचायतों की संख्या कम हो गई है।

आयुक्त ने बताया कि परिसीमन से पहले हरिद्वार में पंचायतों की संख्या 316 थी, जो अब घटकर 308 रह गई है। इस तरह से जिले में आठ पंचायत कम हो गई हैं। सदस्य ग्राम पंचायत, सदस्य क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत सदस्यों की संख्या में इजाफा हुआ है।

पंचायत कार्यक्रम इस प्रकार है

  • नामांकन – एक दिसंबर से चार दिसंबर तक
  • नामांकन पत्रों की जांच – पांच दिसंबर से नौ दिसंबर तक
  • नाम वापसी – दस दिसंबर, आठ बजे से तीन बजे तक

चुनाव चिन्हों का आवंटन

  • लक्सर और खानपुर में 11 दिसंबर को
  • बहादराबाद और भगवानपुर में 17 दिसंबर को
  • रुड़की और नारसन में 23 दिसंबर को

मतदान

  • लक्सर और खानपुर में 21 दिसंबर, 2015
  • बहादराबाद और भगवानपुर में 27 दिसंबर, 2015
  • रुड़की, नारसन में दो जनवरी, 2016
  • मतगणना – पांच जनवरी, 2016

मतदाता

  • महिलाएं – 393697
  • पुरुष – 437208
  • कुल – 830905

पद जिनके लिए चुनाव होगा

  • सदस्य ग्राम पंचायत – 3736
  • प्रधान – 308
  • सदस्य क्षेत्र पंचायत – 221
  • सदस्य जिला पंचायत – 47