देश की बिजली की जरूरतों को पूरा करने के लिए जिस टिहरी झील में टिहरी के इतिहास व वर्तमान को डुबो दिया गया। अब वही टिहरी झील पर्यटन सर्किट के रूप में विकसित होगी और लोगों को रोजगार देगी। इसके लिए केंद्र सरकार की ओर से राज्य को 140 करोड़ रुपये की मदद मिलेगी।

इस 140 करोड़ में से इसमें 80 करोड़ की धनराशि तो दी भी जा चुकी है। दूसरे चरण में एप्रोच रोड, बार्ज बोट के संपर्क मार्ग और अन्य कार्यों के लिए 60 करोड़ की धनराशि भी जल्द ही रिलीज होगी।

केंद्रीय पर्यटन मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने शनिवार को टिहरी की कोटी कॉलोनी में दो दिवसीय टिहरी झील साहसिक पर्यटन उत्सव एवं निवेशक सम्मेलन के शुभारंभ अवसर पर यह ऐलान किया। उन्होंने कहा कि कोटी कॉलोनी से नई टिहरी रोपवे का निर्माण कार्य भी जल्द ही शुरू किया जाएगा। इससे पहले केंद्रीय मंत्री डॉ. शर्मा और मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पर्यटन उत्सव का विधिवत शुभारंभ किया।
adventures-sports-in-tehri-lake1

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि टिहरी झील को व्यवसाय का माध्यम बनाएं। आपदा के बाद उत्तराखंड ने खुद को खड़ा किया है और इस साल 10 लाख से अधिक यात्री चारधाम आए हैं। अगले साल सरकार का लक्ष्य 15 लाख यात्रियों को चारधाम लाना है। हिमालय दर्शन योजना इसी साल से शुरू की जाएगी।

उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री दिनेश धनै ने कहा कि हर साल झील महोत्सव मनाया जाएगा। झील के आसपास अवस्थापना सुविधाएं जुटाई जाएंगी। स्थानीय लोगों को रोजगार में प्राथमिकता दी जा रही है। टिहरी की सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह ने कहा कि टिहरी झील का नाम न बदला जाए। इसी मौके पर केंद्रीय मंत्री डॉ. शर्मा ने राजीव गांधी साहसिक खेल अकादमी, फ्लोटिंग मरीना एवं माल वाहक बार्ज बोट का लोकार्पण भी किया।

उत्तराखंड के पर्यटन सचिव शैलेश बगोली का कहना है कि टिहरी झील में विकास की संभावनाओं को लेकर देश के विभिन्न राज्यों से 40 निवेशक, 41 पैराग्लाइडिंग, कैनोईंग और क्याकिंग की टीमें महोत्सव में भाग लेने पहुंची हैं। निवेशकों से चर्चा के बाद इसका प्रस्ताव सरकार को सौंपा जाएगा।

tehri-lake-mahesh-sharma-harish-rawat

इससे पहले टिहरी झील साहसिक पर्यटन महोत्सव और निवेशक सम्मेलन का मुख्यमंत्री हरीश रावत और केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री डॉ महेश शर्मा ने कोटी में द्वीप प्रज्वलित कर शुभारंभ किया। इस मौके पर पर्यटन विभाग की ओर से इस अवसर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन हुआ।

टिहरी झील में वॉटर एडवेंचर स्पोर्टस के लिए रॉफ्टिंग, क्याकिंग और एरो स्पोर्टस में पैरा ग्लाइडिंग और एयर बैलून के भी डैमो दिखाए गए। दो दिनों तक चलने वाले पर्यटन महोत्सव में रविवार 29 नवंबर को नई टिहरी बौराड़ी में कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने केंद्रीय पर्यटन मंत्री का टिहरी आने पर आभार जताया और अनुरोध किया कि उत्तराखंड में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं, जिसके लिए केंद्र से योजनाओं का लाभ राज्य को मिले। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि आने वाले समय में टिहरी झील पर्यटन के क्षेत्र में अमूल्य हीरा साबित होगी और पर्यटन के क्षेत्र में विश्व मानचित्र पर अपनी अलग पहचान बनाएगी।

adventures-sports-in-tehri-lake2

केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री डॉ. महेश शर्मा का कहना है कि पहाड़ की जवानी और पानी पहाड़ के काम नहीं आता है, लेकिन अब टिहरी झील का पानी यहां की जवानी के काम आएगा। टिहरी झील इसमें एक नया इतिहास लिखेगी। टिहरी झील में पर्यटन बढ़ने से यहां के लोगों के लिए रोजगार के नए अवसर खुलेंगे, जिसके लिए भारत सरकार उत्तराखंड की हर तरह से मदद करेंगी और उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नई योजनाएं भी भारत सरकार बना रही है।