ग्लोबलाइजेशन के इस दौर में जिस अनुपात में सुख-सुविधाएं बढ़ी हैं, उसी अनुपात में व्यक्ति के जीवन में तनाव की भी बढ़ोतरी हुई है। अगर यह कहें कि तनाव आधुनिक जीवशैली की देन है, तो गलत न हेागा। यह बहुत दु:ख की बात है कि तनावग्रस्त लोगों में युवाओं की संख्या ज्यादा है।

आमतौर पर ऐसा माना जाता रहा है कि तनाव के शिकार केवल बड़ी उम्र लोग ही होते हैं, लेकिन समय-समय पर हुए विभिन्न सर्वेक्षणों में यह बात सामने आई है कि तनावग्रस्त लोगों में ज्यादा संख्या युवाओं की है। वर्ममान में सोलह साल का बच्चा भी इस मर्ज से पीड़ित है। पढ़ाई ठीक से नहीं हो रही, भविष्य में उसका करियर कैसा होगा, जैसी बातें उसे उम्र से पहले ही तनाव से भर देती हैं।

क्या आप भी कुछ ऐसा ही महसूस करते हैं…

  • हमेशा तनाव व नकारात्मक विचारों से घिरे रहना।
  • सुबह की शुरुआत अपने दुखों को याद करते हुए व बीते हुए कल को लेकर करना।
  • हर समय उनींदे से रहना और बिना बात किसी पर चिढ़ जाना।
  • जीवनशैली का ठीक प्रयोग नहीं कर पाना।

stressed2

अगर जवाब हां में है तो इन सब का सीधा सा अर्थ है कि आपका घर वास्तु अनुकूल नहीं है। अगर आपको इसका कारण समझ नहीं आ रहा है। डॉक्टरी सलाह लेने के बावजूद भी आपको तनाव से मुक्ति नहीं मिल रही है, तो इसका अर्थ यह है कि आपके घर में कहीं न कहीं कुछ गड़बड़ी जरूर है। इससे छुटकारा पाने के लिए किसी वास्तु सलाहकार को अपने घर का नक्शा दिखाकर उससे सलाह लेना ही बेहतर रहता है।

तनाव के कुछ मुख्य कारण ये भी हैं…

  • घर में वास्तु व पंचतत्वो में असंतुलन
  • घर के मर्म स्थानों का वेदित होना
  • बेडरूम के ज़ोन व रंगो का गलत चयन
  • उत्तर-पूर्व दिशा में स्टोर रूम, जूते-चप्पल या गंदगी स्थित होना
  • दक्षिण में पूजा स्थल होना

वास्तु के उपायों पर करें अमल
stressed-woman

मानसिक तनाव की शुरुआत हमारे आस-पास मौजूद नकारात्मक ऊर्जा से होती है। तनाव को अपने जीवन से दूर करने के लिए अपने घर के वातावरण को पवित्र बनाएं। घर में सकरात्मक ऊर्जा विकसित करने के लिए एनर्जी सॉल्ट से पोछा लगवाएं।

यह सुनिश्चित करें कि आपके घर की उत्तर-पूर्व दिशा में स्टोर रूम ना हो। इस दिशा में स्टोर रूम बनाने या वहां पर फालतू सामान रखने से वहां रहने वाले को गहरे तनाव और अवसाद का सामना करना पड़ सकता है।

मनसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने और तनाव को बढ़ाने वाले जोन उत्तर-पश्चिम दिशा में बेडरूम बनाने से बचना चाहिए।

यदि बेडरुम आग्नेय कोण में है तो वहा हल्का हरा रंग करवा लें तथा नीले रंग से संबंधित वस्तुओ को हटा दें।

मर्म स्थान बेहद संवेदनशील स्थान होते है व इनका बुरा प्रभाव एकदम से प्रभावित करता है। जैसे मर्म स्थान पर कोई पिनर हो, पानी का भूमिगत टैंक हो या दीवार में कोई कील ठोक दे, इस तरह की छोटी सी गतिविधि भी सीधा शरीर की रीड़ की हडी में भी चोट लगने की संभावना बना देती है। क्योंकि यह वास्तु पुरुष मंडला का ही भाग है परंतु इन सूक्ष्म मर्म स्थानों की ठीक पहचान एक कुशलवास्तु शास्त्री ही कर सकता है।

रंगों का सही चयन सबसे बेहतर उपाय
रंगों के उचित संयोजन के माध्यम से आप तनाव से मुक्ति पा सकते हैं। हरे और पीले रंग के सभी शेड्स पोषणात्मक रंगों के तहत आते हैं। अगर आप हमेशा तनावग्रस्त रहते हैं, तो अपने घर के पूर्व दिशा में हरे और दक्षिण-पश्चिम दिशा की दीवारों को पीले रंग से पेंट करवाएं। इससे पारिवारिक सदस्यों के बीच संबंध बेहतर बनता है, जिससे तनाव और डिप्रेशन से छुटकारा मिलता है।

Stressed

अपने घर में पंचतत्वों के संतुलन का खास ख्याल रखें। अपने घर के सभी कमरों में जल, आकाश, वायु, अग्नि और पृथ्वी तत्व की उपस्थिति को सुनिश्चित करें। इससे आपकी जिंदगी में संतुलन आएगा और आप तनावग्रस्त नहीं रहेंगे। मान लीजिए आपके घर में अग्नि तत्व संतुलित नहीं है, तो उसे संतुलित करने के लिए उस दिशा में प्रतीकात्मक तौर पर अग्नि का चित्र लगाकर उस जोन को संतुलित कर सकते हैं। इसी तरह से आकाश तत्व को संतुलित करने के लिए सफेद रंग का प्रयोग पश्चिम में करें।

सकारात्मक ऊर्जा को करें आकर्षित
अपने घर में सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने के लिए अपने घर में गमलों में सही ग्रीन प्लांट लगाएं। अपने लीविंग रूम में प्राकृतिक दृश्य की तस्वीर लगाएं। इससे एंग्जाइटी दूर होती है और खुशहाली का एहसास होता है।

मेडिटेशन के माध्यम से आप अपने तनाव को चुटकियों में दूर कर सकते हैं। अपनी भागदौड़-भरी जिंदगी से थोड़ा-सा समय चुराकर मेडिटेशन करें।

ब्रहम मुहुर्त यानी सूर्योदय से पूर्व के समय का सदउपयोग करना, यह एक सफलतम उपायों में से एक है। आप इस समय ध्यान लगाते हैं तो जीवन की कई कठिनाईयों से मुक्त हो जाएंगे।

naresh_singal325यह लेख मशहूर ज्योतिष, वास्तु और फेंग्शुई विशेषज्ञ नरेश सिंगल से बातचीत के आधार पर लिखा गया है। वास्तु से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या के समाधान के लिए नरेश सिंगल से संपर्क करें…

+91-9810290286
9810290286@vaastunaresh.com, mail@vaastunaresh.com