सांकेतिक तस्वीर

स्पेशल 26 का छापा पड़ता है तो फिर कोई नहीं बच पाता। इनकी एक और खासियत होती है, वो ये कि ठगी की बड़ी वारदात को अंजाम देने के बाद भी पुलिस इनका कुछ नहीं बिगाड़ पाती। अक्षय कुमार की फिल्म ‘स्पेशल 26’ तो देखी ही होगी आपने। लेकिन…

इन ठगों की किस्मत हमेशा इतनी अच्छी हो ये जरूरी तो नहीं। आखिरकार स्पेशल 26 के 2 लुटेरे पुलिस की गिरफ्त में आ ही गए। ये दोनों महिलाएं हैं। इनका संबंध 2 नवंबर को चंपावत में एक व्यापारी को ठगने वाले गिरोह से है और पुलिस इनसे गहन पूछताछ कर रही है।

गौरतलब है कि रेसकोर्स क्षेत्र में दो नवंबर की रात यशपाल नाम के व्यापारी के घर में आठ लोग आ धमके थे। इनमें दो महिलाएं व 6 युवक थे। इन लोगों ने व्यापारी को बताया कि वे प्रवर्तन निदेशालय (ED) के अधिकारी हैं और उसके यहां कमेटी के मामले में छापा डाला जा रहा है। इन लोगों ने यशपाल से कमेटी का हिसाब-किताब दिखाने को कहा।

घर में घुसे ठगों को अधिकारी समझकर यशपाल ने उनसे छोड़ने की मिन्नतें कीं। इस पर फर्जी अधिकारियों ने उससे 50 लाख रुपये की मांग की। इस पर यशपाल ने उन्हें 25 लाख रुपये में मना लिया। इतनी राशि देने के साथ ही उसने इस कथित टीम को सवा किलो सोने के आभूषण भी दे दिए।

इतनी बड़ी ठगी को अंजाम देकर कुछ सदस्य वहां से निकल गए। दो यशपाल के घर पर ही रुके रहे। तभी उन्होंने यशपाल से अपने बाकी सदस्यों को तलाशकर लाने के लिए स्कूटी मांगी। वे भी यशपाल की स्कूटी लेकर चंपत हो गए। काफी देर तक जब कोई नहीं लौटा तो यशपाल को अहसास हुआ कि उसके साथ ठगी हुई है।

इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने कारगी चौक से लावारिस हालत में स्कूटी बरामद कर ली। पुलिस ने इस मामले में गिरोह की दो महिलाओं को गिरफ्त में ले लिया है। पुलिस ने दोनों आरोपी महिलाओं को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से गिरफ्तार किया है।