जैसे-जैसे ठंड बढ़ती जा रही है वैसे-वैसे उत्तराखंड में बिजली संकट भी गहराता जा रहा है। राज्य के जल विद्युत गृहों में कुल मिलाकर 5.67 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन हो रहा है। जबकि बिजली की मांग 33.40 मिलियन यूनिट तक पहुंच गई है।

राज्य के विद्युत गृहों, केंद्रीय सेक्टर व अन्य स्रोतों से कुल मिलाकर 32.91 यूनिट बिजली मिल रही है। राज्य में बिजली संकट न गहराने पाए, इसके लिए यूपीसीएल हरियाणा पावर कॉरपोरेशन और इंडियन एनर्जी एक्सचेंज से बिजली खरीद रहा है।

दूसरी ओर ठंड में गहराते बिजली संकट के मद्देनजर नार्दर्न रीजन लो डिस्पैच सेंटर (एनआरएलडीसी) ने राज्यों से लोड कम करने को कहा है। बिजली की कमी के चलते यूपीसीएल की ओर से बिजली कटौती भी शुरू कर दी गई है।

यूपीसीएल के आला अधिकारियों के निर्देश पर ऊधमसिंहनगर जिले में दो घंटे की बिजली कटौती की गई। चीला जल विद्युत गृह बंद होने के कारण कोटद्वार व ऋषिकेश में एक-एक घंटे की कटौती की गई। यूपीसीएल अधिकारियों ने बताया कि बिजली का संकट न हो, इसके लिए इंडियन एनर्जी एक्सचेंज समेत अन्य स्रोतों से बिजली खरीद की जाती रहेगी।