अस्थायी राजधानी देहरादून में पुलिस प्रशासन ने महिलाओं की यात्रा को सुरक्षित बनाने के लिए एक अलग तरह की पहल की है। देहरादून के प्रेमनगर रूट पर महिला केबिन की बस का संचालन शनिवार से शुरू किया है।

अस्थायी राजधानी देहरादून के घंटाघर से इस बस को शुरू किया गया है। बस की आगे की तीन सीट पर केवल महिलाएं बैठेंगी। साथ ही उनकी सुरक्षा के लिए बस में जाली लगाई गई है। यानी महिलाओं की सीट पर कोई पुरुष यात्री नहीं बैठ सकता है।

महिलाओं ने पुलिस प्रशासन की इस पहल की काफी सराहना की है। महिलाओं का कहना है कि भारी संख्या में प्रेमनगर रूट पर कामकाजी महिलाएं काम करती हैं, जो सिटी बस में यात्रा करती है लेकिन बसों में भीड़ काफी होती है।

ऐसे में महिलाओं को यात्रा के दौर कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कई बार सीट पर बैठने को लेकर तू-तू, मैं-मैं भी हो जाती है। कई बार महिलाएं बसों में खड़ी रहती हैं, जिससे उनके साथ छेड़छाड़ भी हो जाती है।

इन तमाम दिक्कतों को देखते हुए महिलाओं के लिए बसों में बैठने के लिए अलग से सीट की व्यवस्था की गई है, जिससे सिटी बस में यात्रा के दौरान किसी भी महिला, युवती व छात्रा को कोई दिक्कत न हो।

एसपी यातायात का कहना है कि अस्थायी राजधानी में कई बार ऐसी शिकायतें मिली रही हैं कि महिलाओं के साथ सिटी बस में छेड़छाड़ होने की घटनाएं बढ़ रही हैं, क्योंकि भारी संख्या में महिलाएं सिटी बस से यात्राएं करती हैं, इस नजरिए से अगर देखा जाए तो एक बात साफ हो गई है कि अब महिलाओं को इन तमाम दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

क्योंकि अब बसों में महिलाओं के लिए अलग से सीट लगाई जा रही है। एसपी सिटी का कहना है कि इस प्रोजेक्ट के सफल होने पर शहर के दूसरे रूट पर भी महिलाओं के केबिन की बसों का संचालन किया जाएगा।