कथित गड़बड़ियों की जांच के लिए शुक्रवार को नारी निकेतन पहुंची प्रशासनिक टीम को संवासिनियों ने धक्का-मुक्की कर बाहर खदेड़ दिया। हंगामे और नारेबाजी के बीच लाठी-डंडों से लैस संवासिनियों ने गेट के भीतर से पथराव किया। पुलिस-प्रशासन की टीम, मीडियाकर्मी और आमजन ने दौड़कर जान बचाई। राह चलती कुछ महिलाओं को चोटें भी आईं।

काफी देर तक चले हंगामे के बाद एडीएम (वित्त एवं राजस्व) पुलिस बल के साथ नारी निकेतन परिसर में पहुंची और स्थिति पर काबू पाया। वहां उन्होंने नारी निकेतन स्टॉफ से पूछताछ की। बताया कि वह डीएम को मामले की रिपोर्ट देंगी। प्रशासनिक टीम के जाने के बाद भी संवासिनियां देर शाम तक मुख्य गेट पर डटी रहीं। उधर, मामले की जांच के लिए निदेशक समाज कल्याण वीएस धनिक भी हल्द्वानी से देर शाम देहरादून पहुंच गए।

नारी निकेतन में मूक-बधिर संवासिनियों के साथ कथित यौन-शोषण का मामला मीडिया के एक वर्ग में कुछ दिनों से उछल रहा है। हालिया दिनों में राज्य महिला आयोग की सचिव सुजाता सिंह और राज्य बाल आयोग की उपाध्यक्ष विजय लक्ष्मी गुसाईं नारी निकेतन जाकर मामले की छानबीन कर चुकी है।

हालांकि, जांच में क्या निकला किसी ने भी सार्वजनिक नहीं किया, लेकिन आयोग की उपाध्यक्ष के गड़बड़ी का शक जाहिर करने के मद्देनजर जिलाधिकारी रविनाथ रमन ने सच का पता लगाने का जिम्मा एडीएम झरना कमठान को सौंपा है। शुक्रवार दोपहर में एडीएम जांच के लिए नारी निकेतन पहुंची तो वहां गेट पर पहले से ही खड़ी लाठी-डंडों से लैस संवासिनियों ने हंगामा व नारेबाजी शुरू कर दी।

प्रशासनिक टीम ने भीतर घुसने की कोशिश की तो संवासिनियों ने धक्का-मुक्की शुरू कर दी। पुलिस ने किसी तरह एडीएम को परिसर में प्रवेश कराया, लेकिन इससे संवासनियां उग्र हो गईं। उन्होंने एडीएम की घेराबंदी कर उन्हें आगे जाने से रोक दिया। धक्का-मुक्की कर उन्होंने एडीएम को बाहर लौटने के लिए मजबूर कर दिया। बाद में पुलिस की मदद से एडीएम जांच के लिए परिसर में जा पाईं।

इस दौरान भीतर से कई चरणों में पथराव हुआ। पूछताछ के बाद एडीएम लौट आई, लेकिन संवासिनियां मुख्य गेट पर ही डटीं थीं। हालात देख नारी निकेतन के बाहर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

इस संबंध में डीएम रविनाथ रमन ने बताया कि स्थिति तनावपूर्ण होने से संवासिनियों के बयान नहीं हो पाए हैं। शनिवार को दोबारा बयान लेने की कोशिश की जाएगी। जिस कथित वीडियो की बात सामने आ रही है, वह अभी तक प्रशासन को नहीं मिला है। वीडियो के लिए संबंधित लोगों से भी बात की गई है। वीडियो मिलने के बाद उसकी जांच कराई जाएगी।