कुआलालंपुर।… प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि भारत की स्थिति लगभग सभी आर्थिक सूचकांकों में बेहतर है। मोदी ने शनिवार को अपने चार दिवसीय मलेशिया और सिंगापुर की यात्रा के पहले दिन आसियान व्यापार एवं निवेश शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ’18 महीने पहले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के सरकार में आने के बाद देश के आर्थिक हालात सुधरे हैं और आज प्रत्येक आर्थिक सूचकांक में भारत की स्थिति बेहतर है।’

प्रधानमंत्री ने भारत और आसियान के देशों को स्वाभाविक साझीदार बताया और कहा कि इनके बीच संबंध प्राचीन काल से हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं कहता रहा हूं कि 21वीं सदी एशिया की सदी है। मैं ऐसा आसियान देशों के ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए कहता हूं।’ पीएम मोदी शनिवार को ही 13वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन और रविवार को 10वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।

मोदी ने साथ ही भारतीय अर्थव्यवस्था की सराहना करते हुए कहा कि भारत ने पिछले 18 महीनों में काफी सुधार किया और विदेशी निवेश को बढ़ाया है। PM मोदी ने आसियान देशों का आहृवान करते हुए कहा कि सभी देश मिलकर बड़ा पावरहाउास बना सकते हैं। मोदी ने भारतीय अर्थव्यवस्था की चुनौतियों और उसके सुधार के बारे में बात की। मोदी ने कहा भारत के सामने कई चुनौतियां थी। महंगाई और राजकोषीय घाटा भारत के लिए चिंता का विषय थी जिसके लिए भारत सरकार ने सुधार किए।

आसियान में पीएम मोदी ने जनधन खाते का भी जिक्र किया और बताया कि भारत ने इस योजना के तहत 19 करोड़ खाते खोले। विदेशी निवेश में 40 फीसदी की बढ़ोत्तरी और मूडी एजेंसी द्वारा ने भारत की रेटिंग बढ़ाने पर भी मोदी ने चर्चा की। साथ ही पीएम मोदी ने पीपीपी मॉडल पर सरकार के समर्थन की बात कही।

दो देशों की यात्रा के पहले चरण में नरेंद्र मोदी शनिवार को मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर आसियान सम्मलेन पहुंचे। कुआलालंपुर में आसियान सम्मलेन पहुंचने पर भारतीय समुदाय ने पीएम मोदी का जोरदार स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुआलालंपुर में आसियान सम्मलेन के शुरू होने से पहले चीनी प्रधानमंत्री किकियांग से भी मिले।