फ्रांस की राजधानी पेरिस में हुए सीरियल आतंकी हमलों के ठीक एक हफ्ते बाद शुक्रवार को अफ्रीकी देश माली की राजधानी बामको में हथियारबंद हमलावरों ने कहर बरपाया। हमलवारों ने होटल रेडिसन ब्लू होटल पर धावा बोलते हुए करीब 170 लोगों को बंधक बना लिया। सैन्य कार्रवाई कार्रवाई खत्म होने पर होटल से कुल 22 लाशें बरामद की गईं।

190 कमरों वाले इस होटल में हमलावरों ने सुबह-सुबह ही (भारतीय समयानुसार दोपहर करीब ढाई बजे) धावा बोला और वहां मौजूद लोगों को हथियारों की नोंक पर बंधक बना लिया। बता दें की 26/11 मुंबई आतंकी हमले के समय भी आतंवादियों ने मुंबई के ताज होटल में ऐसे ही लोगों को बंधक बना लिया था।

बताया जा रहा है कि हमलावरों ने जिस वक्त होटल पर धावा बोला वो ‘अल्लाह हु अकबर’ के नारे लगा रहे थे। होटल में घुसते ही उन्होंने गोलीबारी शुरू कर दी। माली के सुरक्षा मंत्री ने बताया कि होटल से सभी बंधकों को मुक्त करा लिया गया है। जवानों ने कुल 22 लोगों के शव बरामद किए हैं। अब होटल में कोई भी बंधक नहीं है।

जिसने कुरान की आयतें पढ़ीं, उसे जाने दिया
mali-hotel

जैसे-जैसे समय बीता हमलावरों ने अपना खूंखार रूप दिखाना शुरू किया। हमलावरों ने बंधकों से कुरान की आयतें पढ़ने को कहा, जिसने आयतें पढ़ी उसे जाने दिया। होटल में हमले की सूचना मिलते ही माली की सुरक्षा एजेंसियां और सेना ने कार्रवाई शुरू कर दी। फौज ने होटल की घेराबंदी की। करीब 80 लोगों ने होटल से भागकर अपनी जान बचाई।

20 भारतीय भी फंसे
बामको में भारतीय राजदूत ने सभी भारतीय के सुरक्षित निकाले जाने की पुष्टि की है। ये सभी भारतीय दुबई की एक कंपनी में काम करते हैं और होटल में स्थायी रूप से रह रहे थे।

फ्रांस और अमेरिकी ने भेजी मदद माली की राजधानी में हमले की जानकारी मिलने पर फ्रांस ने मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया। फ्रांस ने मौके पर आतंकरोधी दस्ते के 50 अधिकारियों को भेजा। इसके साथ ही अमेरिका ने भी अपने स्पेशल फोर्स के कमांडो भेज दिए, जिन्होंने बामको पहुंचकर तुरंत मोर्चा संभाल लिया। बता दें कि पिछले हफ्ते फ्रांस की राजधानी पेरिस में आईएसआईएस के आतंकियों ने एक साथ छह जगहों पर हमला बोला था। जिसमें करीब डेढ़ सौ लोग मारे गए थे। हालांकि अब तक किसी भी आतंकी संगठन ने माली में हुए हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। इससे पहले बंधक संकट के कुछ देर बाद ही बड़ी सफलता हाथ लगी और 80 लोगों को मुक्त करा लिया गया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, माली के विशेष सुरक्षाबलों द्वारा बंधकों को छुड़ाते समय की गई धुआंधार गोलीबारी की आवाज साफ सुनाई दे रही थी। इससे पहले शुक्रवार को दो बंदूकधारियों ने 170 लोगों को बंधक बना लिया था, यही नहीं तीन की हत्या भी कर दी। बंधक बनाए गए लोगों में 20 भारतीय मूल के भी हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट करके यह जानकारी दी है।

‘सीएनएन’ की रिपोर्ट के अनुसार, रेडिसन ब्लू होटल श्रृंखला की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि दो हथियारबंद हमलावरों ने 140 अतिथियों और होटल के 30 कर्मचारियों को बंधक बना लिया। इनमें 10 चीनी नागरिक भी थे।

प्रशासन का कहना है कि इस आतंकी घटना में तीन लोगों की मौत हो गई। मृतकों में माली के दो नागरिक और फ्रांसीसी मूल के एक नागरिक हैं। प्रत्यक्षदर्शी अमादो केता ने कहा कि दोनों बंदूकधारी कूटनीतिक वाहन में आए थे। गोलीबारी कई मिनटों तक होती रही।

maliattack

संयुक्त राष्ट्र सैन्य टुकड़ियों की मदद से माली के सैनिकों ने होटल को चारों ओर से घेर लिया। फिलहाल किसी भी गिरोह ने इस घटना की जिम्मेदारी नहीं ली है।

रेडिसन ब्लू होटल बमाको सेनोउ अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर है, जहां तक की यात्रा में लगभग 15 मिनट का समय लगता है।