गंगोत्री नेशनल पार्क भी 6 महीने के लिए बंद, पर्यटकों-पर्वतारोहियों के लिए अप्रैल में खुलेगा पार्क

चार धाम यात्रा के साथ ही उत्तराखंड में ट्रेकिंग एवं पर्वतारोहण भी इस बार आपदा के साए से उभरकर पटरी पर लौट आए। इस साल गर्मी की मौसम में गंगोत्री नेशनल पार्क क्षेत्र में पर्यटकों एवं पर्वतारोहियों की खूब चहल पहल रही।

अब उच्च हिमालयी क्षेत्र में ठंड शुरू होने पर गंगोत्री नेशनल पार्क क्षेत्र में अगले साल अप्रैल तक के लिए प्रवेश बंद कर दिया गया है। अगस्त 2012 और जून 2013 की आपदा के बाद सिर्फ चार धाम यात्रा ही नहीं, बल्कि ट्रेकिंग एवं पर्वतारोहण व्यवसाय भी चौपट हो गया था।

इस साल अप्रैल से नवंबर के बीच 13,996 पर्यटक एवं पर्वतारोही गंगोत्री हिमालय क्षेत्र में ट्रेकिंग और पर्वतारोहण के लिए पहुंचे। इसमें 1,312 विदेशी भी शामिल रहे।


गंगोत्री हिमालय क्षेत्र की विभिन्न चोटियों पर आरोहण के लिए 12 भारतीय और 14 विदेशी पर्वतारोही दल भी पहुंचे। पहली बार सरकार द्वारा भारत-चीन सीमा से लगी नेलांग घाटी को पर्यटकों के लिए खोले जाने पर करीब सात सौ पर्यटक नेलांग सफारी पर यहां पहुंचे।

पिछले साल 21 लाख के मुकाबले वन विभाग को इस बार 32,07,924 रुपये राजस्व मिला। गंगोत्री नेशनल पार्क के वन क्षेत्राधिकारी प्रताप पंवार ने बताया कि उच्च हिमालयी क्षेत्र में ठंड शुरू होने पर गंगोत्री नेशनल पार्क क्षेत्र में पर्यटकों को प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। अब अगले साल अप्रैल से ही पर्यटकों को प्रवेश की अनुमति दी जाएगी।