वन्य जीव प्रेमियों और जंगल की सफारी करने वाले लोगों के लिए एक अच्छी खबर है। विश्‍वप्रसिद्ध राष्ट्रीय राजाजी पार्क और अब राजाजी टाइगर रिजर्व में पर्यटक जंगल सफारी का लुत्फ उठा सकेंगे।

मानसून सीजन के बाद 15 नवंबर से राजाजी टाइगर रिजर्व फिर से एक बार खुल रहा है। हर साल मानसून सीजन के चलते 15 जून से 15 नवंबर तक आम पर्यटकों के लिए राजाजी टाइगर रिजर्व बंद कर दिया जाता है। हाल ही में राष्ट्रीय राजाजी नेशनल पार्क में टाइगर की चहलकदमी देखी गई है, जिसके बाद इसी साल उत्तराखंड सरकार ने इसे राजाजी टाइगर रिजर्व घोषित कर दिया था।

करीब 820 वर्ग किलोमीटर में फैला राष्ट्रीय राजाजी पार्क 1983 में घोषित हुआ था। हाथियों की मौजूदगी के चलते इस क्षेत्र को एशियाई हाथियों का आंगन भी कहा जाता है। अपनी जैव विविधता के चलते इस क्षेत्र में कई दुर्लभ वन्य जीवों की प्रजातियां पाई जाती हैं।

राष्ट्रीय राजाजी पार्क में हर साल जंगल सफारी का लुत्फ उठाने के लिए देश-विदेश के पर्यटक आते हैं और इस बार भी वन विभाग ने पार्क को पर्यटकों के लिए पूरी तरह से तैयार कर दिया गया है।

बीते मानसून सीजन में जंगलों के क्षतिग्रस्त हुए मार्गों को दुरुस्त कर लिया गया है। आगामी 15 नवंबर को विधिवत रूप से पार्क के चीला रेंज के गेट आम पर्यटकों के लिए खोल दिए जाएंगे।