प्रकाश पर्व दीपावली बुधवार को पूरे देश में पारंपरिक श्रद्धा और पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस मौके पर लोगों ने पूजा-अर्चना की और दीये जलाए तथा बाद में आतिशबाजी भी की। दीपावली को देखते हुए राष्ट्रीय राजधानी सहित पूरे देश में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे।

दीपावली पर हमेशा की तरह बच्चों और नौजवानों में खासा उत्साह देखा गया। उन्होंने आतिशबाजी की। लोग अपने मित्रों एवं संबंधियों के घर गए और एक दूसरे को दीपावली की शुभकमानाएं दी। लोगों ने मिठाइयों का आदान-प्रदान भी किया। लोगों ने एसएमएस, व्हाट्सऐप और सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट के जरिए भी दीपों के पर्व की बधाइयां दीं।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा कई अन्य प्रमुख नेताओं ने देशवासियों को दीपावली की बधाई दी। मुखर्जी ने दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए देशवासियों से अपील की कि वे रोशनी के इस त्योहार को प्रदूषण मुक्त तरीके से मनाएं।

मुखर्जी ने ट्वीट किया, ‘यह त्योहार हमारे देश के सभी वर्गों के लोगों के लिए खुशियां और समृद्धि लेकर आए।’ उन्होंने कहा, ‘मैं सभी भारतीयों से दीपावली का त्योहार प्रदूषण मुक्त तरीके से मनाने की अपील करता हूं।’ पीएम मोदी ने भी लोगों को दीपावली की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने लगातार दूसरे साल सैनिकों के साथ दीपावली मनाई और कहा कि दुनिया इनके पराक्रम और चरित्र के कारण भारत को सम्मान की नजर से देखती है। उनका यह बयान ऐसे समय आया है जब ‘वन रैंक वन पेंशन’ के मुद्दे पर कई पूर्व सैनिक प्रदर्शन कर रहे हैं।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक वीडियो संदेश के माध्यम से देशवासियों को शुभकामनाएं दीं और उम्मीद जतायी कि यह दीपावली उनके लिए समृद्धि और खुशियां लेकर आए। भारतीय और पाकिस्तानी सुरक्षाकर्मियों ने दिवाली के अवसर पर सीमा पर मिठाइयों का आदान प्रदान किया। अधिकारियों ने बताया कि बीएसएफ के अमृतसर सेक्टर कमांडेंट बिपुल बीर गुसैन ने पाकिस्तान रेंजर विंग कमांडर लेफ्टिनेंट कर्नल बिलाल अहमद को जीरो लाइन पर मिठाइयों से भरी टोकरी सौंपी।

इस मौके पर सुरक्षाकर्मियों ने एक दूसरे को गले लगाया और दिवाली की बधाइयां दी। दिल्ली में भी दीपावली पूरे पारंपरिक अंदाज में बनाई गई। यहां सुबह से ही लोग अपने घरों की सजावट, दीये तैयार करने तथा रंगोलियां बनाने में जुटे हुए थे।

उत्तराखंड में पारंपरिक तरीके से पूरी श्रद्धा के साथ दीपावली का त्योहार मनाया गया। यहां लोगों ने घरों को लीप कर ऐंपण आदि से सजाया हुआ था।

शाम के समय दिल्लीवासियों ने दीये जलाए और आतिशबाजी की। बच्चों में खूब उत्साह देखा गया। उन्होंने शाम होने से पहले ही पटाखे चलाने शुरू कर दिए।

दिल्ली पुलिस और अग्निशमन विभाग के कर्मियों को किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए तैयार रखा गया था। शहर में सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए थे।

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने बच्चों के साथ दीपावली की खुशियां बांटी। राजभवन की ओर से जारी बयान के मुताबिक राज्यपाल ने राजकीय बाल शिशु गृह के बच्चों के साथ दीपावली की खुशियां बांटी और उन्हें राजभवन घूमने का निमंत्रण देते हुए जाते वक्त दीपावली के तोहफे के रूप में मिठाई और फुलझड़ियां भी दीं।

राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने प्रदेशवासियों को दीपावली की शुभकामनाएं दीं।

उधर, गुरू ग्रंथ साहब को अपवित्र करने की हालिया घटनाओं के मद्देनजर पंजाब में दीपावली का जश्न थोड़ा फीका रहा, जबकि हरियाणा में दीपों के इस पर्व को लोगों ने पारंपरिक अंदाज से मनाया।

पंजाब में धार्मिक ग्रंथ को अपवित्र करने की पृष्ठभूमि में शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी ने सिखों से अपील की थी कि वे सादगी से दीपावली मनाएं। ज्यादातर सिखों ने ‘काली दिवाली’ मनाई। अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर में भी दीप प्रज्वल्लित नहीं किए गए तथा यहां कोई आतिशबाजी नहीं की गई।