उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सोमवार को उत्तराखंड दिवस के मौके पर घरेलू कुशल लाइटिंग कार्यक्रम (डीईएलपी) की शुरुआत की। इसके तहत उपभोक्ताओं को कम कीमत में एलईडी बल्ब उपलब्ध कराए जाएंगे।

बिजली मंत्रालय के अधीन आने वाली एनर्जी इफीशिएंसी सर्विसेज (ईईएसएल) राज्य में इस कार्यक्रम को क्रियान्वित करेगी। ईईएसएएल की विज्ञप्ति के अनुसार सस्ती दर पर एलईडी देने की योजना शुरू करने के आवेदन को राज्य नियामकीय आयोग ने स्वीकार कर लिया और इस संबंध में आदेश जारी किया गया है।

कार्यक्रम के तहत प्रत्येक ग्राहक प्रति परिवार तीन एलईडी बल्ब के पात्र होंगे। ये बल्ब 10-10 रुपये में दिए जाएंगे। शेष राशि उपभोक्ताओं के बिजली बिल से 10 महीनों में वसूली जाएगी। इसमें अधिकतम प्रत्येक एलईडी बल्ब के लिए हर महीने 10 रुपये की सीमा है।

प्रत्येक एलईडी बल्ब के साथ बिजली बिल में करीब 160 से 400 रुपये की कमी आने का अनुमान है। योजना के तहत एलईडी बल्ब अच्छी गुणवत्ता के हैं और इसके लिए तीन साल की वारंटी दी जा रही है।

इस बल्ब का जीवनकाल 25,000 घंटे हैं। एलईडी बल्ब सात वाट का है और यह 60 वाट के परंपरागत फिलामेंट बल्ब के बराबर है। योजना का लाभ उठाने के लिए ग्राहक को ताजा बिजली बिल के साथ पहचान पत्र की फोटोकॉपी देनी होगी।

बल्ब के वितरण केंद्र के बारे में जानकारी www.delp.in से प्राप्त की जा सकती है। साथ 1800-419-0405 पर फोन कर सहायता प्राप्त की जा सकती है। ईईएसएल का 2019 तक देश भर में रिहायशी क्षेत्र में 77 करोड़ परंपरागत बल्ब बदलने का लक्ष्य है।