उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी देहरादून में सस्ते खाने की कैंटीन ‘इंदिरा अम्मा भोजनालय’ की सफलता से उत्साहित राज्य की हरीश रावत सरकार आगामी 19 नवंबर से सभी जिलों में यह योजना शुरू करने जा रही है।

प्रमुख सचिव, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति राधा रतूड़ी ने देहरादून में घंटाघर स्थित ‘इंदिरा अम्मा भोजनालय’ का निरीक्षण करने के बाद यहां यह जानकारी दी।

राधा ने बताया कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य आम लोगों को सस्ती दर पर बेहतर भोजन उपलब्ध कराना है। उन्होंने कहा कि आगामी 19 नवम्बर को सभी जिलों में इंदिरा अम्मा भोजनालय शुरू कर दिए जाएंगे, जिसके लिए सभी प्रक्रियाएं पूरी कर ली गई हैं। निरीक्षण के दौरान राधा के साथ प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास एवं सूचना मनीषा पंवार भी मौजूद थीं।

प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास एवं सूचना मनीषा पंवार ने इंदिरा अम्मा भोजनालय का संचालन कर रही महिला स्वयं सहायता समूह की संचालिका से कैंटीन के संबंध में विस्तृत जानकारी हासिल करके भोजनालय में प्रयोग होने वाली खाद्य सामग्री मंडुवा, झंगोरा, सब्जी आदि स्थानीय स्वयं सहायता समूहों से खरीदने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि आगामी 19 नवम्बर से राज्य के सभी जिलों में इस योजना को शुरू करने के लिए जिला स्तर पर चयनित महिला स्वयं सहायता समूहों को देहरादून में प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

मनीषा ने बताया कि अभी तक अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, पौड़ी, टिहरी आदि जिलों की महिला स्वयं सहायता समूहों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। निरीक्षण के बाद राधा व मनीषा ने भी कैंटीन में भोजन किया।

इस मौके पर जानकारी दी गई कि देहरादून की कैंटीन में लगभग 900 लोग प्रतिदिन भोजन कर रहे हैं। इसी साल 15 अगस्त को उत्तराखंड सरकार ने सस्ते भोजन की यह योजना शुरू की थी, जिसमें केवल 20 रुपये के रियायती दामों में एक दाल, एक सब्जी, चार चपाती, चावल, हरी चटनी और अचार वाली थाली उपलब्ध करायी जा रही है।