उत्तराखंड में केदार मंदिर समिति के अंतर्गत आने वाले सभी मंदिर एवं तीर्थस्थल अब शीतकालीन यात्रा से जुड़ेंगे। इसके लिए मंदिर समिति ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। केदारनाथ एवं बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद होने के बाद दोनों तीर्थ धामों के शीतकालीन गद्दीस्थलों के अलावा अन्य मंदिरों में भी शीतकालीन पूजाएं संपन्‍न होंगी।

दरअसल, बद्री-केदार मंदिर समिति के अंतर्गत केदारनाथ, बद्रीनाथ के अलावा चमोली व रुद्रप्रयाग जिले के अन्य 52 मंदिर और भी हैं। बद्री-केदार मंदिर समिति का विशेष ध्यान बद्री-केदार की यात्रा पर लगा रहता है, लेकिन अब अन्य मंदिरों को भी यात्रा से जोड़ा जाएगा।

शीतकाल और ग्रीष्मकाल में अन्य सभी मंदिरों में भी पूजा-अर्चना होगी। अन्य मंदिरों के यात्रा से जुड़ने के बाद सालभर यहां तीर्थ यात्री पहुंच सकते हैं और स्थानीय लोगों को आजीविका के मौके पर भी मिलेंगे।

बद्री-केदार मंदिर समिति के मुख्य कार्यधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि अन्य 52 मंदिरों को भी यात्रा से जोड़ा जाएगा। इसके लिए मंदिर समिति ने प्रचार-प्रसार शुरू कर दिया है।