मौका-मौका : अब नौकरी और अप्रेन्टिसशिप मिलेगी आसानी से, पढ़ें.. कैसे?

केन्द्र सरकार की अप्रेटिंस प्रोत्साहन योजना के तहत अब प्राइवेट कंपनियों और निजी उपक्रमों को पोर्टल में अपना पंजीकरण करवाना होगा। संस्थानों में कुशल पदों की पूरी जानकारी भी देनी होगी, ताकि आईटीआई प्रशिक्षार्थी और नॉन टेक्निकल बेरोजगार इस पोर्टल के जरिए वहां अप्रेन्टिसशिप के लिए आवेदन कर पाएं।

खास बात यह है कि अप्रेन्टिसशिप के दौरान मिलने वाले स्टाइपेंड की आधी रकम केंद्र सरकार वहन करेगी और आधी रकम संस्थान वहन करेगा। इस योजना के जरिए जहां निजी संस्थानों को ट्रेंड कारीगर आसानी से मिल पाएंगे वहीं बेरोजगारों को रोजगार और टेक्नीकल होने का लाभ भी मिलेगा।

डायेरक्टर, प्रशिक्षण एवं सेवायोजन के डिप्टी डायरेक्टर मंयक अग्रवाल कहते हैं कि इस योजना को प्रभावी बनाने के लिए आईटीआई के टीमें एक महीने के अंदर उत्तराखंड की सभी प्राइवेट कंपनियों और निजी उपक्रमों का दौरा कर उन्हें जानकारी देंगी।

इस योजना को लागू न करने वाली कंपनियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाहीं और जुर्माना वसूलने का भी प्रावधान किया गया है।