उत्तराखंड सरकार कर्मचारियों को दीपावली के तोहफे के रूप में डीए और बोनस देने की तैयारी कर रही है। अधिकारियों ने इसका प्रस्ताव भी तैयार कर लिया है। अब इस प्रस्ताव को मुख्यमंत्री के पास अनुमोदन के लिए भेजा जा रहा है। वित्त विभाग का अनुमान है कि इस पर करीब 325 करोड़ रुपये का व्यय भार आएगा।

राज्य कर्मचारियों की ओर से केंद्र के समान छह फीसदी महंगाई भत्ते की मांग पहले ही की जा चुकी है। वित्त विभाग के सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री से अनुमोदन के लिए इसका प्रस्ताव तैयार किया जा चुका है। कर्मचारियों को छह फीसदी महंगाई भत्ता देने पर करीब 250 करोड़ रुपये का व्यय भार आने का अनुमान है।

इसी तरह, बोनस घोषित करने पर करीब 75 करोड़ रुपये का व्यय भार अनुमानित है। कुल मिलाकर यह खर्च करीब सवा तीन सौ करोड़ रुपये का है। विधानसभा सत्र शुरू होने के कारण फिलहाल इस मामले को घोषित करने से बचा जा रहा है। लेकिन इतना तय है कि दीपावली से पहले ही डीए और बोनस को घोषित किया जाएगा।

राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष प्रहलाद सिंह के मुताबिक राज्य सरकार से पहले ही समय से बोनस और महंगाई भत्ता जारी करने की मांग की जा चुकी है। केंद्र सरकार छह फीसदी महंगाई भत्ता तीन महीने पहले ही घोषित कर चुकी है।

उधर, निगम कर्मचारियों का भी कहना है कि राज्य कर्मचारियों के साथ ही उन्हें भी महंगाई भत्ता और बोनस दिया जाए। निगम कर्मचारियों के लिए बोनस और भत्ते का प्रस्ताव औद्योगिक विकास विभाग की ओर से रखा जाता है।

विभाग के इस प्रस्ताव के आधार पर ही निगम प्रबंधन निगम कार्मिकों को बोनस और भत्ता देने का आदेश जारी करते हैं। अभी तक औद्योगिक विकास विभाग राज्य कर्मचारियों का डीए घोषित होने के बाद ही यह आदेश जारी करता आया है। इससे कर्मचारियों को एक माह बाद ही डीए मिल पाता है।