साली से रेप के बाद मौत के घाट उतारने वाले जीजा को उम्रकैद

कुमाऊं क्षेत्र में नैनीताल जिले के रामनगर में 2010 में एक वहशी जीजा ने अपनी साली के साथ रेप के बाद उसे मौत के घाट उतार दिया था। साली की दर्दनाक हत्या के आरोपी जीजा को आखिरकार सजा मिल गई है।

प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुजाता सिंह की अदालत से साल 2010 में रामनगर में हुई युवती की हत्या के मामले में आरोपी जीजा को आजीवन कारावास और 15,500 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई। सुनवाई में पीड़ित पक्ष ओर से एडीजीसी घनश्याम पंत ने नौ गवाह पेश किए।

पीड़ित पक्ष की ओर से कोर्ट को बताया गया कि 7 जून 2010 को गुरुदेव सिंह पीरूमदारा स्थित अपने खेत में पानी लगाने गए थे। वहां उन्होंने एक महिला की जली हुई लाश देखी। सूचना के बाद रामनगर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। जहां मृतका के भाई संजय सिंह ने उसकी पहचान अपनी बहन लक्ष्मी के रूप में की।

संजय ने रामनगर थाने में दी गई शिकायत में कहा है कि उसकी बहन यहां पीरूमदारा खाटपुर कॉलोनी रामनगर निवासी अपनी दीदी मोनिका और जीजा हरबंश के साथ रहती थी और लक्ष्मी डेल्टा फैक्ट्री काशीपुर में काम करती थी। संजय के मुताबिक घटना के दिन वह भाई की शादी में जाने के लिए बहन मोनिका को लेने आया था। रात में उसने जीजा को खून से सने कपड़ों में देखे जाने की बात भी कही।

पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 201, 411, 394 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। जांच एसआई प्रमोद दानू ने की। पूछताछ में आरोपी ने साली के साथ शारीरिक संबंध के बाद हत्या करना कबूल कर लिया। जिसकी निशानदेही पर हत्या में इस्तेमाल किया गया हथियार (दरांती) भी बरामद कर ली गई।

कोर्ट में हुई सुनवाई में आरोपी की पत्नी ने भी अपने पति के खिलाफ गवाही दी। दोनों पक्षों को सुनने के बाद न्यायाधीश ने आरोपी को आईपीसी की धारा 302 में आजीवन कारावास व 10 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।

इसके अलावा धारा 201 में सात साल की सजा व पांच हजार रुपये जुर्माना, धारा 411 में एक साल की सजा व 500 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई। जबकि 394 में उसे दोषमुक्त करार दिया।