देहरादून : अवैध संबंधों के शक में पत्नी को उतारा मौत के घाट, 17 दिन बाद मिला कंकाल

पति-पत्नी के रिश्ते के बीच शक आ जाए तो घर बर्बाद होते देर नहीं लगती। ऐसा ही कुछ उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी देहरादून में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है। नाजायज संबंधों के शक में पति ने पत्नी की गला दबाकर हत्या कर शव को देहरादून में मसूरी रोड पर फेंक दिया।

यही पहचान छिपाने के इरादे से चेहरे पर पत्थर मारकर कुचल दिया। टिहरी और राजपुर थाना पुलिस की कार्रवाई में आरोपी पति की निशानदेही पर 17 दिन बाद महिला का कंकाल बरामद किया गया है। आरोपी ने नौकरी दिलाने के बहाने पत्नी को देहरादून बुलाकर वारदात को अंजाम दिया। घटना के विरोध में थत्यूड़ में बाजार बंद होने के साथ परिजनों ने थाने में हंगामा किया।

पुलिस के मुताबिक जौनपुर अलमस गांव निवासी राजपाल पुंडीर को अपनी पत्नी संगीता (26) पर नाजायज संबंध होने का शक था। राजपाल को लगता था कि उसकी बेटी भी उसका अपना खून नहीं है। इसी बात पर दंपति में विवाद रहता था। फिर क्या था नोएडा में वेटर का काम करने वाले राजपाल ने संगीता की हत्या की साजिश रच दी।

सात अक्टूबर को संगीता को देहरादून में नौकरी का झांसा देकर मसूरी बुला लिया। मसूरी घुमाने के बाद राजपाल शाम के समय कुठाल गेट पर संगीता को लेकर बस से उतर गया। आरोपी बीवी को घुमाने के बहाने जंगल की तरफ ले गया। जहां पर संगीता का गला उसी की चुन्नी से घोटने के बाद पत्थरों से उसके सिर और चेहरे पर कई वार कर दिए।

महिला चिल्लाई भी, लेकिन उसकी चीख सुनने वाला कोई नहीं था। हत्या करने के बाद संगीता के शव को झाड़ियों में फेंककर आरोपी भाग आया। उसी दिन रात नौ बजे सौड़ कखोन निवासी ससुर अमीचंद सिंह को सूचना दी कि संगीता का सुबह से पता नहीं चल रहा है। आठ अक्टूबर को थत्यूड़ थाने में पत्नी की गुमशुदगी दर्ज कराई। हालांकि, संगीता के परिजनों को शक था कि संगीता के गायब होने के पीछे राजपाल का ही हाथ है।

दो दिन तक आरोपी बीवी को ढूंढने का ड्रामा करता रहा। 11 अक्टूबर को बिना बताए राजपाल नोएडा चला गया। संगीता के परिजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए आरोपी की गिरफ्तारी के लिए कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया था।

एसओजी टीम ने सोमवार को राजपाल पुंडीर को नोएडा से हिरासत में लेकर पूछताछ की। थोड़ी सख्ती में ही आरोपी ने जुर्म कबूल लिया। आरोपी ने बताया कि डेढ़ साल पहले बेटी के होने के बाद ही उसे संगीता पर शक था। टिहरी पुलिस ने मंगलवार सुबह आरोपी को लेकर देहरादून पहुंची।

आधा घंटे की कोशिश के बाद आरोपी की निशानदेही पर संगीता की खोपड़ी के अलावा कुछ और हड्डियां बरामद हो गई। उधर, संगीता का कंकाल मिलने की खबर पर आक्रोशित लोगों ने थत्यूड़ थाने में हंगामा शुरू कर दिया। उनका आरोप था कि पुलिस ने घटना को गंभीरता से नहीं लिया।

प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि थाना प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई की जाए। टिहरी के पुलिस अधीक्षक बीजे सिंह ने थाना थत्यूड़ पहुंचकर पीड़ित पक्ष को भरोसा दिया कि अन्य सभी पहलुओं से मामले की जांच की जाएगी। आरोपी पति दिल्ली के एक होटल में वेटर का काम करता है। परिवार में मां-पिता के अलावा एक बड़ा भाई है जो सेना में सेवारत है।