हरिद्वार।… अखिल विश्व गायत्री परिवार की ओर से चलाए जा रहे निर्मल गंगा जन अभियान के चौथे चरण में मंगलवार को ग्राम तीर्थ साइकिल यात्रा का शुभारंभ दोपहर दो बजे होगा। गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या साइकिल यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। यह जत्था हरिद्वार के विभिन्न मार्गों से गुजरता हुआ आगे बढ़ेगा।

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि गायत्री परिवार के जनक पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने कहा है कि भारत की आधी आबादी आज भी गांवों में बसती है और गांवों के हर व्यक्ति तक पहुंचने के लिए साइकिल ही सर्वश्रेष्ठ वाहन है।

उन्होंने कहा, ‘गंगा के संरक्षण की जब हम बात करते हैं तो साइकिल इकोफ्रेंडली भी है। इससे कार्बन डाइऑक्साइड नहीं निकलता। साइकिल ही इक्कीसवीं सदी का वाहन है।’

इस यात्रा में हरिद्वार से सौ साइकिलें तथा उत्तर प्रदेश एवं अन्य स्थानों से चार सौ साइकिलें गंगोत्री से गंगासागर तक के तट प्रदेशों में बसे गांव-गांव, गली-गली, मुहल्ले-मुहल्ले, घर-घर तक जन जागरण के उद्देश्य से पहुंचेंगी।

निर्मल गंगा जन अभियान से जुड़े केदार प्रसाद दुबे के अनुसार, ये साइकिल यात्री दो-दो की टोली में व्यक्तिगत संपर्क कर जन जागरण अभियान चलाएंगे। यात्रा के दौरान हर गांव में बैठक कर गंगा की व्यथा कथा पर शांतिकुंज द्वारा बनाई गई फिल्म बड़े पर्दे पर दिखाई जाएगी। साथ ही संदेश वाहकों की टोली गंगा के दोनों तटों पर पौधे लगाकर मां गंगा को ‘हरी चूनर’ पहनाएंगे। वे स्कूल कॉलेजों के विद्यार्थियों में गंगा को स्वच्छ रखने के लिए संकल्प पत्र भी भरवाएंगे।

दुबे के अनुसार, गंगा सेवा समूहों के माध्यम से इन तटों पर गंगा में गंदे नाले, कचरे आदि विसर्जित न किए जाएं, इसके लिए भी प्रयास एवं जन जागरण किया जाएगा।