उत्तराखंड में बागेश्वर-टनकपुर रेल मार्ग निर्माण की मांग आजादी के बाद से ही उठती रही है। बीते कई सालों से इस रेल मार्ग के निर्माण को लेकर लगातार संघर्ष कर रहे लोगों ने रविवार को तहसील परिसर में जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान संघर्ष समिति के लोगों ने अपनी मांग को लेकर जोरदार नारेबाजी की।

बागेश्वर-टनकपुर रेल मार्ग निर्माण की मांग को लेकर साल 2004 मे संघर्ष समिति का गठन हुआ और तब से लगातार आंदोलन कर रहे संघर्ष समिति के लोगों का कहना है कि हमारे लगातार किए जा रहे आंदोलन के बाद भी सरकार इस रेल मार्ग की मांग को अनसुना कर रही है।

संघर्ष समिति द्धारा बागेश्वर में लगातार संघर्ष के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में जंतर-मंतर पर भी कई बार धरना प्रर्दशन किया जा चुका है। अब तक नेताओं के कई आश्वासन मिल चुके हैं, लेकिन दुख की बात ये है कि कोई भी जनप्रतिनिधि मजबूती के साथ पहाड़ की इस मांग को नहीं उठा रहे हैं।

प्रर्दशन कर रहे लोगों का कहना है कि जब तक पहाड़ में रेल का सपना साकार नहीं हो जाएगा, इसी तरह और मजबूती के साथ ये संघर्ष जारी रहेगा।