देहरादून जिले में विकासनगर क्षेत्र स्थित लक्सियार गांव में गुरुवार को दलित देव मालियों के साथ मारपीट के मामले में राज्यसभा सांसद तरुण विजय ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि दलितों के दिल में भी राम बसते हैं और उनसे भगवान के नाम पर मारपीट करना ठीक नहीं है।

सांसद ने स्पष्ट कहा कि दलित हमारे देवता हैं। उनके साथ किसी भी प्रकार की ज्यादती बर्दास्त नहीं की जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साफ निर्देश हैं कि सभी वर्गों का सम्मान किया जाए। तरुण विजय ने कहा कि भगवान के नाम पर दलितों से मारपीट करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने इस मामले को राज्यसभा में उठाने की बात भी कही।

गुरुवार को पाइता पर्व के दौरान लक्सियार गांव के महासू मंदिर में एक महिला सहित तीन दलित देव मालियों के साथ मारपीट का मामला सामने आया था। आरोप था कि कुछ लोगों ने दलित देव मालियों की देव चिह्न से पिटाई की।

विवाद के बाद शुक्रवार को राज्यसभा सांसद तरुण विजय लक्सियार गांव पहुंचे और दलितों के साथ महासू मंदिर में दर्शन किए। इससे पहले तरुण विजय ने विकासनगर ब्लॉक सभागार में लोगों को संबोधित करते हुए घटना की कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि दलित हित के सर्वाधिक मामले उन्होंने ही राज्यसभा में उठाए हैं।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी नहीं चाहता कि दलित समुदाय के साथ भेदभाव किया जाए। उन्होंने जाति के नाम पर इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे रहे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की वकालत की।