मधेसी आंदोलन की फाइल फोटो

पड़ोसी हिमालयी देश नेपाल के विभिन्न हिस्सों में एक बार फिर से मधेसी आंदोलन शुरू हो चुका है। इससे बाद भारतीय सीमा में सुरक्षा बलों ने चौकसी बढ़ा दी है। हालांकि उत्तराखंड से लगे पश्चिमी नेपाल के जिलों में फिलहाल मधेसी आंदोलन का कोई असर नहीं दिख रहा है। पिछले दिनों हुई नाकेबंदी के दौरान भी पश्चिमी नेपाल में कोई असर नहीं पड़ा था।

पश्चिमी नेपाल के जिले भारतीय क्षेत्र में सड़क मार्ग से नहीं जुड़े हैं। भारत और नेपाल के बीच झूलापुलों से आवाजाही होती है। इन पुलों में नाकेबंदी का कोई असर नहीं है। धारचूला के उस पार (नेपाल) दार्चुला में और जौलजीबी के उस पार (नेपाल) उकू, बांकू में जनजीवन पूरी तरह सामान्य है।

इधर, झूलाघाट में भी नेपाल के जुलाघाट बाजार, बैतड़ी, गोठलापानी में किसी तरह के तनाव की स्थिति फिलहाल नहीं है। नेपाल सीमा पर एसएसबी और पुलिस लगातार चौकसी बरत रही है।

सीओ जीएल कोहली का कहना है कि सीमा से लगे सभी थानों को अलर्ट कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि पुलिस को एसएसबी के साथ तालमेल करने को कहा गया है। नेपाल के घटनाक्रम पर लगातार नजर रखी जा रही है।