उत्तराखंड : उच्च पहाड़ी क्षेत्रों में तैनात पुलिसकर्मियों को मिलेगा 300 रुपये दैनिक भत्ता

देहरादून।… चारधाम यात्रा तथा अति दुर्गम क्षेत्रों में पुलिस के काम की तारीफ करते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बुधवार को हाई अल्टीट्यूड (उच्च पहाड़ी श्रेत्रों) में तैनात पुलिस कर्मियों को 300 रुपये दैनिक भत्ता देने, साइकिल भत्ता दोगुना किए जाने तथा एक करोड़ रुपये की शुरुआती निधि से पुलिस कल्याण कोष की स्थापना करने की घोषणा की।

पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस लाइन में आयोजित एक कार्यक्रम में कर्तव्य निर्वहन के दौरान शहीद हुए पुलिस कर्मियों को श्रद्घांजलि अर्पित करने के बाद मुख्यमंत्री ने राज्य में 28 नए थाने खोलने और टिहरी, अल्मोड़ा, पौड़ी व पिथौरागढ़ में विजिलेंस के चार उपकेन्द्र स्थापित करने की भी घोषणा की।

पूरी दक्षता से चुनौतियों का सामना करने और कर्तव्य निर्वहन करने के लिए प्रदेश पुलिस की सराहना करते हुए रावत ने उम्मीद जतायी, ‘पुलिस अच्छा प्रदर्शन जारी रखेगी और हरिद्वार में अगले साल होने वाले अर्धकुंभ के दौरान भी उत्तम प्रदर्शन करेगी।’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘चारधाम यात्रा के संचालन व अति दुर्गम क्षेत्रों में पुलिसिंग दूसरे राज्य के लिए भी अनुकरणीय है।’ उन्होंने बताया कि इस साल सावन में दो करोड़ कांवड़ यात्री राज्य में आए और राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद किए बिना निर्विघ्न यात्रा सम्पन्न कराई गई।

उन्होंने कहा कि दो देशों की अंतरराष्ट्रीय सीमाओं व दूसरे राज्यों से जुड़े क्षेत्रों की प्रभावी निगरानी के कारण हालांकि बाहर की घटनाओं का प्रभाव हमारे राज्य पर नहीं पड़ा है। लेकिन इस संबंध में आगे हमें सचेष्ट रहना होगा।

रावत ने कहा कि राज्य में 28 नए पुलिस थाने खुलने हैं और प्रत्येक में एक महिला इंस्पेक्टर तैनात करने की कोशिश है। पुलिस बल में संख्या बढ़ाने की कोशिश भी की जा रही है।

पुलिस महानिदेशक बीएस सिद्धू ने बताया कि गत वर्ष देश में 441 पुलिस कर्मी अपनी ड्यूटी का निर्वहन करते हुए शहीद हुए जिनमें से सात पुलिसकर्मी उत्तराखंड के थे।

गौरतलब है कि 21 अक्टूबर 1959 को चीन सीमा पर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 10 जवानों की टुकड़ी ने चीनी आक्रमणकारियों से लड़ते हुए अपने प्राणोत्सर्ग किए थे। तब से उनकी याद में हर साल इस दिन को देश भर में स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाता है।