उत्तराखंड में देहरादून जिले के विकासनगर में एक बेहद शर्मनाक मामला सामने आया है। यहां दो लोगों ने एक महिला और उसकी नाबालिग बेटी का अपहरण कर उनके साथ दुष्कर्म की कोशिश की।

महिला किसी तरह बदमाशों के चंगुल से भाग निकली। पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए महिला की बेटी को सकुशल बरामद करने के साथ ही दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपियों के खिलाफ अपहरण, रेप की कोशिश, धमकी और पोक्सो अधिनियम में मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को कोर्ट में पेश किया। जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया। घटना सहसपुर थाना क्षेत्र की है।

देहरादून के पटेल नगर थाना क्षेत्र की एक महिला का मायका सहसपुर थाना क्षेत्र में है। शनिवार को महिला आईएसबीटी देहरादून से बस में हरबर्टपुर के लिए सवार हुई। उसके साथ उसकी 13 साल बेटी भी थी।

बस में अशरफ पुत्र वाजिद अली निवासी रुद्रपुर थाना सहसपुर भी सवार था। वह शराब के नशे में धुत था। उसने महिला को विश्वास में लेकर बेटी के साथ छरबा मोड़ पर उतार लिया और फोन करके अपने साथी तालिब पुत्र हमीद निवासी केदारावाला थाना सहसपुर को भी बुला लिया।

तालिब के पहुंचने के बाद चारों एक बाइक में सवार हो गए। अशरफ और तालिब ने दोनों मां-बेटी को बालूवाला के जंगल में ले जाकर महिला से रेप की कोशिश की। महिला किसी तरह वहां से भागने में सफल रही, जबकि दोनों आरोपी उसकी बेटी को अगवा कर ले गए।

महिला ने किसी तरह थाने पहुंचकर घटना की जानकारी पुलिस को दी। तुरंत हरकत में आई पुलिस ने देर शाम महिला की बेटी को जंगल से बरामद कर दोनों आरोपियों को धर दबोचा।

पूछताछ में महिला की बेटी ने बताया कि आरोपियों ने उसे शराब पिलाने की कोशिश की थी। थानाध्यक्ष यशपाल बिष्ट ने बताया कि अशरफ चोरी के आरोप में पहले भी जेल जा चुका है। वह पेशे से ड्राइवर है।