सोमवार सुबह टिहरी-श्रीनगर मोटर मार्ग पर जखंड के पास एक यात्री बस खाई में गिर गई। इस दर्दनाक हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि 36 लोगों के घायल होने की खबर है।

अधिकतर घायलों को सिर पर चोट है। 11 लोगों की स्थिति अब भी गंभीर बताई जा रही है। इनमें चार को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। 31 लोगों का श्रीनगर के मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में इलाज चल रहा है। एक घायल को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। बताया जाता है कि बस में 40 लोग सवार थे। सांसद बीसी खंडूड़ी ने अस्पताल पहुंचकर घायलों का हालचाल पूछा।

जानकारी के अनुसार सोमवार सुबह उत्तरकाशी से चली बस कीर्तिनगर से करीब 22 किलोमीटर दूर जखंड से पहले अमोली मोड़ पर सड़क से करीब 50 मीटर नीचे जा गिरी। बस के खाई में गिरते ही उसकी छत और सीटें उखड़ गई।

bus-accident-in-shrinagar2

घायलों की चीख पुकार सुनकर स्थानीय लोग और जीआईसी जखंड के छात्र मदद के लिए पहुंचे। लोगों ने घायलों को बस से निकालकर सड़क पर पहुंचाया। तब तक कीर्तिनगर के कोतवाल सीएस बिष्ट अपनी फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए।

लोगों और पुलिस ने निजी वाहनों से घायलों को श्रीनगर मेडिकल कॉलेज भिजवाया। दुर्घटना में दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। एक घायल ने अस्पताल ले जाते वक्त दम तोड़ दिया।

मेडिकल कॉलेज के आकस्मिक विभाग में बेड की कमी को देखते हुए कई घायलों को डेंगू वार्ड में भी शिफ्ट करना पड़ा। घायलों की संख्या अधिक होने से दो-दो घायलों को एक ही बेड पर लिटाया गया। इससे घायलों को भी दिक्कत का सामना करना पड़ा। टिहरी की जिलाधिकारी ज्योति खैरवाल भी मौके पर पहुंची। पुलिस अधीक्षक बीजे सिंह ने मेडिकल कॉलेज पहुंचकर पुलिस टीम को एंबुलेंस तैयार रखने के निर्देश दिए, ताकि रेफर करने की दशा में वाहन के लिए देरी न हो।

उन तीन लोगों की हुई मौत
मोहन सिंह पुत्र सुरेंद्र सिंह उम्र 53 साल, निवासी श्रीकोट गंगानाली
अरविंद चमोली (26) पुत्र जगदंबा चमोली निवासी श्रीकोट गंगानाली
हर्षू लाल (52) पुत्र दर्शन लाल निवासी इंद्रलोक कॉलोनी उत्तरकाशी

इन घायलों को किया गया हायर सेंटर रेफर
राजेंद्र व दिनेश गुसाईं (जीआईसी धारकोट), ड्राइवर दिनेश राणा (धनारी, उत्तरकाशी), अमित (उत्तरकाशी)

अन्य घायल
bus-accident-in-shrinagar1

धीरज सिंह (सरणा घुड़दौड़स्यूं), रजत कुमार व राजेश बनौत (वेस्ट पटेलनगर दिल्ली), राजेश चौधरी व उनकी पत्नी पुष्पा देवी (गोरखपुर यूपी), विनोद व उनकी पत्नी पार्वती देवी (डोबलिया टकोली), गंगोत्री (थलन उत्तरकाशी), जोधा लाल (मगरो टिहरी), दीपेंद्र, समीर नेगी, गौरव, आयुष (जीआईसी धारकोट), कुशाल (नगीना यूपी), रजत बंसल (देहरादून), श्यामू लाल (अमोली टिहरी), टिटूलाल व उनकी पत्नी लता देवी, बेटी निकिता व पुत्र संदीप (डडुआ टिहरी), जितेश राज (कंसेण उत्तरकाशी), बलवीर सिंह (भैंगा टिहरी), आलम सिंह (भैंगा टिहरी), सुरेश शाह (इंद्रा कॉलोनी उत्तरकाशी), हयात सिंह नेगी (श्रीनगर), कंडक्टर मुरारी लाल (दिखोली उत्तरकाशी), रविंद्रन (हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट) और पंकज दास, आत्माराम, शशोधर व चंद्रकांत शुक्ला (इस्कान मंदिर)। एक घायल किशन नेगी (कफल्डी) फर्स्ट एड के बाद घर चला गया।

जिस जगह पर यह बस दुर्घटना हुई है, वहां सड़क काफी चौड़ी है। मौके की स्थिति देखने से लगता है कि बस मुड़ने के बजाय सीधे खाई की ओर चली गई। बस में 40 लोग सवार थे, जबकि बस 22 या 27 सीटर बताई जा रही है। ऐसे में हो सकता है कि ओवरलोडिंग और गति पर नियंत्रण न रख पाने से ड्राइवर बस पर नियंत्रण खो बैठा हो। अगर बस झाड़ियों में नहीं अटकती और इसकी छत अलग नहीं होती तो हताहतों की संख्या बढ़ सकती थी। पुलिस गाड़ी के ड्राइवर के होश में आने का इंतजार कर रही है।

घटनास्थल आवासीय बस्ती के पास होने से घायलों को तत्काल मदद मिल गई। जखंड सहित आसपास के गांव के लोगों और जीआईसी जखंड के छात्रों ने तत्काल राहत कार्य शुरू कर दिया। लोग झाड़ियों में रास्ता बनाते हुए घटनास्थल तक पहुंचे। उन्होंने खाई में गिरे लोगों को सड़क तक पहुंचाया। तब तक मदद के लिए गाड़ियां भी पहुंच गईं।