उत्तराखंड में साल 2017 में विधानसभा चुनाव होने हैं और राज्य कांग्रेस ने अभी से कमर कसते हुए तैयारियां शुरू कर दी हैं। उत्तराखंड कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने महंगाई के मोर्चे पर केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है।

सोमवार यानी 19 अक्टूबर से उत्तराखंड कांग्रेस पीएम मोदी की ‘चाय पर चर्चा’ के जवाब में आसमान छूती दालों की कीमतों पर एक अभियान के रूप में ‘अरहर पर चर्चा’ कार्यक्रम शुरू करेगी।

अगले एक हफ़्ते कांग्रेसी राज्य के आम इंसान के साथ ‘महंगाई’ खासकर दालों की क़ीमतों में बेतहाशा वृद्धि पर बात करेगी। कांग्रेसी चाहते हैं कि ‘अरहर पर चर्चा’ के बहाने जहां महंगाई से त्राहिमाम-त्राहिमाम कर रहे आम लोगों के जख्मों पर मरहम लगाने की कोशिश होगी, वहीं केन्द्र पर भी निशाना साधा जाएगा।

शनिवार को कांग्रेस भवन में प्रेस वार्ता कर उत्तराखंढ कांग्रेस प्रमुख ने महंगाई और केन्द्र की नीतियों के खिलाफ प्रदेश कांग्रेस के आंदोलन का ब्यौरा दिया। उन्होंने कहा कि ‘अरहर पर चर्चा’ के बाद हर जिले में जाकर केन्द्र को घेरा जाएगा। प्रदेश कांग्रेस केन्द्र के खिलाफ कैंडल मार्च निकालकर भी विरोध दर्ज कराएगी।

इस बीच शनिवार शाम मुख्यमंत्री हरीश रावत ने खाद्य विभाग की आपात बैठक बुलाकर दालों को राशन की दुकानों पर बेचने के आदेश दिए हैं। सीएम रावत ने कहा कि अरहर और महंगाई के चलते आम लोगों की थाली से ग़ायब हो चुकी दालों को थोक रेट पर बेचा जाए।