उत्तराखंड निवासी बीमार लोगों को अब इलाज के लिए राज्य के बाहर अस्पतालों में लगने वाले खर्च और किराए के लिए भी परेशान नहीं होना पड़ेगा। अस्पताल नि:शुल्क इलाज तो देंगे ही, साथ ही मरीजों को आने-जाने का खर्च भी देंगे।

मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना में उत्तराखंड के बाहर अस्पतालों में इलाज कराने वाले मरीजों के लिए यह प्रावधान किया गया है। अभी राज्य के भीतर इलाज कराने वाले मरीजों को ही इसका लाभ मिलता है।

इस योजना के धरातल पर आने के बाद सभी अस्पतालों में बीमा योजना के तहत दो लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज होगा। इसमें सामान्य बीमारियों के साथ ही कैंसर, हार्ट सर्जरी, हेड इंजरी, स्पाइनल सर्जरी सहित कई गंभीर बीमारियों को भी शामिल किया गया है। योजना के तहत कुल 1713 अलग-अलग बीमारियों में मुफ्त उपचार की सुविधा होगी।

इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी (डिस्चार्ज) के समय अस्पताल मरीज को यात्रा भत्ते के रूप में एक हजार रुपये नगद भी देंगे। यह भत्ता केवल उत्तराखंड के बाहर अस्पतालों में इलाज पर मिलेगा। राज्य में इलाज कराने पर मात्र सौ रुपया यात्रा भत्ता दिया जाएगा। बता दें कि, एक अप्रैल से शुरू हुई योजना में अब तक 26 हजार से ज्यादा लोग इसका लाभ उठा चुके हैं।

msby-yojna

मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत राज्य के सभी सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पतालों की ओपीडी भी नि:शुल्क करने की योजना है। वर्ल्ड बैंक के प्रोजेक्ट पर स्वास्थ्य विभाग की टीम काम कर रही है। जिसके तहत एमएसबीवाई के मरीजों को ओपीडी में भी नि:शुल्क इलाज दिया जाएगा।

योजना का लाभ लेने से छूटे परिवारों को दो महीने के बाद संशोधित योजना लागू होने पर योजना में शामिल किया जाएगा। जिन परिवारों के नाम वोटर लिस्ट में नहीं हैं, उन्हें संबंधित जिलाधिकारी के निर्देश पर योजना में शामिल किया जाएगा।

योजना में राज्य के बाहर के अस्पतालों को भी सूचीबद्ध किया गया है। इसमें बीमारियों के हिसाब से अलग-अलग धनराशि के पैकेज बनाए गए हैं। मरीजों को यात्रा भत्ता भी दिया जाएगा, ताकि राज्य से बाहर इलाज के लिए उन्हें परेशान न होना पड़े।