साल 2018 में होने वाले 38वें राष्ट्रीय खेलों के लिए उत्तराखंड का खेल महकमा पूरी तैयारी में जुटा हुआ है। भले ही अभी आपको धरातल पर काम कम ही दिख रहे हों, लेकिन तैयारियां रफ्तार पकड़ चुकी हैं। राष्ट्रीय खेल आयोजन समिति ने जो 4 लोगो और 2 मसकट फाइनल किए हैं, उसमें देवभूमि उत्तराखंड की छाप साफ दिखेगी।

तस्वीरों को गौर से देखेंगे तो आपको अंदाजा लग जाएगा कि कैसे एक मसकट में कस्तूरी मृग और दूसरे में राज्य पक्षी मोनाल को शामिल किया गया है। ‘प्ले इन पैराडाइज’ स्लोगन भी खिलाड़ियों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए तय किया गया है।

लोगो और मसकट खेल निदेशालय की वेबसाइट पर डाले जा रहे हैं। उत्तराखंडवासियों की ओर से इन पर फीडबैक लिया जाएगा और सबसे ज्यादा लोग जिसे पसंद करेंगे उसी पर आयोजन समिति अंतिम फैसला लेगी।

आयोजन समिति के अध्यक्ष और मुख्य सचिव राकेश शर्मा का कहना है कि राष्ट्रीय खेलों की तैयारी तेज कर दी गई है। कंसल्टेंट ने जो प्रारूप लोगो के दिए हैं उनमें से छांटे गए लोगो आम जनता के फीडबैक के लिए खेल विभाग की वेबसाइट पर अपलोड किए जा रहे हैं।

उप-निदेशक खेल अजय अग्रवाल का कहना है कि राज्य के गढ़वाल और कुमाऊं दोनों मंडलों में आयोजन होगा और आयोजन समिति की बैठक में फिलहाल नौ स्थान चिन्हित किए गए हैं। कन्सल्टेंट की रिपोर्ट के आधार पर खेल गांव और दूसरी जरूरतों पर काम चल रहा है।