नैनीताल और पौड़ी जिले के बीच बसा कॉर्बेट नेशनल पार्क साढ़े तीन महीने मानसून में बंद रहने के बाद एक फिर पर्यटकों से गुलजार होने लगा है। गुरुवार को पार्क का बिजरानी जोन पर्यटकों के लिए खोल दिया गया।

पार्क के इस गेट के खुलते ही वन्यजीव प्रेमियों को एक बार फिर से इस सत्र में वन्यजीवों की दुनिया को देखने और समझने का मौका मिल सकेगा।

कॉर्बेट पार्क का रोमांच पर्यटकों पर साफ देखा जा रहा है। पहले ही दिन पार्क की पहली पाली पर्यटकों से फुल हो गई। इसके बाद एक अन्य महत्वपूर्ण ढिकाला जोन हर साल की तरह 15 नवम्बर को पर्यटकों के लिए खोला जाएगा।

जर्मनी से पार्क घूमने आई सौफिला ने कहा कि वह पार्क खुलने के पहले दिन यहां पहुंची हैं। वह काफी उत्साहित हैं कि उन्हें वन्यजीवों की दुनिया देखने का मौका मिलेगा। अगर बाघ दिख जाए तो वह अपने आप को खुशकिस्मत समझेंगी।

अमेरिका से पहली बार कॉर्बेट पहुंचे सुमित ने कहा कि उन्होने कॉर्बेट का नाम बहुत सुना है। वह पार्क में बाघ देखने के लिए आए हैं वह अफ्रीका में गए थे, तो वहां शेरों की दुनिया देखी, लेकिन वहां टाइगर नहीं था इसलिए वह टाइगर देखने यहां आए हैं।

वहीं सिकन्दराबाद से आयी सीमा विक्टर भी काफी उत्साहित हैं। वह सभी वन्यजीवों को देखने पहुंची हैं। वह यहां चीतलों व हाथियों का झुण्ड देखने पहुंची हैं, और यदि बाघ दिख जाए तो सोने पर सुहागा होगा।

दूसरी ओर पार्क प्रशासन ने भी पर्यटकों की सुरक्षा के मद्देनजर इस बार से पार्क के रास्तों में कई बदलाव किए हैं। पार्क वार्डन शिवराज चंद ने बताया कि सैलानियों की सुरक्षा के लिए कई मार्गों को वन वे कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पर्यटकों में पार्क की लोकप्रियता इससे ही समझी जा सकती है कि पहले दिन से ही पार्क फुल चल रहा है।